असम की जानकारी

असम का पहनावा | असम की वेशभूषा | चाय की खेती assam |असम की चाय की विशेषताएं

 

असम को आसाम भी कहा जाता है जो भारत के उत्तर पूर्व में स्थित है ! इस प्रदेश की जनसंख्या करीब 3,12,05,576 है और राजधानी गुवाहाटी है ! असम के राज्यपाल का नाम - श्री बनवारीलाल पुरोहित जबकि असम के मुख्यमंत्री का नाम - श्री सर्बानन्द सोणोवाल है ! इस राज्य में कुल 27 जिले हैं  !

असम में कितने जिले हैं ?

उत्तर - असम में कुल जिलों की संख्या 27 है !

असम के जिलों के नाम क्या है ?

असम के जिलों का नाम निम्नलिखित हैं  

  1. उत्तर कछर

  2. करीमगंज

  3. कामरूप

  4. कार्बी ऑन्गलॉन्ग

  5. कोकराझार

  6. गोलाघाट

  7. काछाड़

  8. गोवालपारा

  9. जोरहाट

  10. डिब्रूगढ

  11. तिनसुकिया

  12. दारांग

  13. धुबरी

  14. धेमाजी

  15. नलबाड़ी

  16. नगांव

  17. बारपेटा

  18. बंगाईगाँव

  19. मारिगांव

  20. लखिमपुर

  21. शिवसागर

  22. शोणितपुर

  23. हैलाकांडी

  24. बक़सा

  25. उदालगुड़ी

  26. चिरांग

  27. दीमा हासओ

असम का पहनावा

असम की वेशभूषा - जिसकी पहचान अलग है

असम का पहनावा आज के समय बदल चुका है यहां की युवा भी पश्चिमी सभ्यता के वेशभूषा को अपना रहे हैं लेकिन असम की वेशभूषा को अगर आपको देखना है तो उसके पारंपरिक त्यौहारों में आप देख सकते हैं ! महिलाओं और पुरुष के अलग होते हैं पहनावा

असमी महिलाओं का पहनावा

यहां की महिलाएं पुरुषों से अलग तरह की ड्रेस पहनती है यह ड्रेस को दो भागों में विभाजित किया जाता है !

ऊपर - एक विशिष्ट प्रकार का चादर कमर से ऊपर के हिस्से को ढकने के लिए पहना जाता है !

कमर से नीचे - पहने जाने वाले पहनावे को मेखला कहां जाता है !

असमी पुरुष का पहनावा

कमर से ऊपर - यह भी एक विशिष्ट प्रकार का चादर होता है जिसे गामोशा कहां जाता है !

कमर से नीचे - नॉर्थ इंडिया से अलग प्रकार का चादर कमर पर बांदा जाता है जिसे धोती कहा जाता है !

चाय की खेती assam

चीन के बाद दुनिया में सबसे ज्यादा चाय का उत्पादन भारत में होता है भारत के सभी राज्यों में सबसे ज्यादा चाय उत्पादन असम में होता है ! असम की चाय पूरी दुनिया में मशहूर है चाय की शुरुआत भी असम से ही हुआ था, एक ब्रिटिश ऑफिसर ने चाय की खेती की शुरुआत असम में की थी ! यहां के कृषि में मुख्य चाय की खेती है जो असम की पहचान है ! असम के ज्यादातर लोगों का आय चाय की पैदावार से होती है जो मालिक होते हैं वह चाय का बागान लगाते हैं और चाय के बागान में पत्तियों तोड़ने वाले ज्यादातर मजदूर असम के ही होते हैं !

असम की चाय की विशेषताएं

असम की चाय की पत्तियां मुलायम एवं हल्के रंगों की होती है जो सबसे ज्यादा स्वादिष्ट होता है अगर पत्तों की साइज की बात करें तो यह 1.5 से 3 सेंटीमीटर तक का होता है ! यहां की मिट्टी और जलवायु चाय की खेती के लिए उपयुक्त है यही नहीं यहां की मिट्टी की चाय पूरी दुनिया में मशहूर है !

 

India Related searches

सम्बंधित लेख - ज़रूर पढ़ें

loading...