Baadh Ke Prabhaav

Baadh Se Nukasaan

बाढ़ के प्रभाव | बाढ़ से नुकसान | Baadh Ke Prabhaav | Baadh Se Nukasaan

बाढ़ के प्रभाव

बाढ़ से नुकसान

बाढ़ के प्रभाव या बाढ़ के नुकसान का आकलन करना मुश्किल होता है क्योंकि इतनी बर्बादी होती है कि हम उसे गिन नहीं सकते ! बाढ़ के मुख्य प्रभाव -

मौत

बाढ़ के कारण मनुष्य के डूबने से लेकर इंफेक्शन होने का चांस बहुत ज्यादा होता है ! जब कोई मनुष्य तैरना नहीं जानता है तो वह बेबस होकर उसे डूबना पड़ता है या जो तैरना भी जानता है लेकिन पानी का बहाव अगर तेज है तो उसका बचपना भी मुश्किल होता है ! खाने की एक विकट समस्या होती है क्योंकि ऐसे समय पर खाना पकाना और सामग्री को इकट्ठा करना बहुत ही मुश्किल होता है! पीने योग्य पानी मिलना मुश्किल होता है क्योंकि भारत के ज्यादातर  क्षेत्रों में अभी भी चापाकल का प्रयोग करते हैं ! जब बाढ़ का पानी चापाकल के पास आ जाता है तो वह पानी दूषित हो जाता है जो पीने योग्य नहीं होता है ! सांप व बिच्छू भी ऊंचे प्लेस पर पहुंच जाते हैं जो मनुष्य के जान के लिए खतरा साबित हो सकता है ! अक्सर आप समाचार में सुनते होंगे कि बाढ़ से इतने लोगों की मौत हो चुकी है !

यातायात में कठिनाई

बाढ़ के पानी के वजह से सड़क रेल एवं हवाई यातायात भी प्रभावित हो जाता है ! भारी बारिश होने की वजह से हवाई अड्डों पर भी पानी भर जाता है जो कुछ समय के लिए हवाई यातायात बाधित हो जाता है ! सड़क एवं रेल मार्ग बाढ़ के समय सबसे ज्यादा मुश्किलों का सामना करते हैं ! पानी के तेज बहाव के कारण सड़क एवं रेल मार्ग के पुल-पुलिया टूट जाते हैं जिसके कारण आवागमन नहीं हो पाता है ! गली मोहल्लों में भी पानी भर जाता है जिससे छोटे वाहन भी नहीं चल पाते हैं  !

किसानों पर प्रभाव

बाढ़ का प्रभाव सबसे ज्यादा किसानों पर होता है क्योंकि उसका फसल पूरी तरह तबाह बर्बाद हो जाता है अक्सर आपने सुना होगा कि किसान आत्महत्या कर लेते हैं क्योंकि वह सरकार का कर्ज अदा कर पाने में असमर्थ हो जाते हैं ! खेतों में मिट्टी की कटाव से जमीन बंजर हो जाती है जिससे किसान भाई भविष्य में उस जमीन पर खेती नहीं कर पाते हैं !

अकाल और गरीबी

जब कभी भंयकर सैलाब आता है तो उसके साथ अकाल और गिरी भी भी साथ आता है ! क्योंकि किसान की अर्थव्यवस्था पर पूरे देश की अर्थव्यवस्था डिपेंड करता है ! अगर किसानों को मुनाफा नहीं होता है तो ऐसे में देश को भी मुनाफा नहीं होता वह इसलिए कि अभी भी बिहार में 70% लोग खेती पर ही आश्रित है ! अनाज एवं सब्जियों में सब्जियों की भारी किल्लत हो जाती है और दाम भी आसमान छूने लगता है !

मवेशियों एवं जानवरों पर प्रभाव

आप जैसा कि जानते हैं कि जानवर घास खाते हैं जब बाढ़ का पानी भर जाता है तो ऐसे में घास व पौधे भी सर जाते हैं जिसे जानवर नहीं खा सकते ! बाढ़ का पानी मवेशियों एवं जानवरों को भी अपने साथ बहा कर ले जाती है जिससे उसकी मौत हो जाती है !

सरकार पर प्रभाव

भयंकर बाढ़ आने से सरकार का भी खजाना खाली हो जाता है क्योंकि बार फिर इसको राहत कार्य चलाने के लिए सरकार को मोटी रकम खर्च करना पड़ता है! बाढ़ के कारण सड़क एवं सरकारी संपत्तियों का भारी नुकसान होता है जिसे सही करने में सरकार को भारी कीमत चुकाना पड़ता है !

विकास पर प्रभाव

बार-बार बाढ़ आने से विकास भी बुरी तरह प्रभावित होता है ! इसका सबसे अच्छा उदाहरण बिहार राज्य है जहां पर हर साल छोटा या बड़ा सैलाब आते रहता है जिसके कारण वहां का विकास अभी तक नहीं हो पाया है !

आम आदमी के जिंदगी में मुश्किल

किसी का घर गिर जाता है या किसी का परिवार बिखर जाता है इन सब को संवारने में मनुष्य का एक पीढ़ी खत्म हो जाती है ! क्योंकि पैसा कमाना और इकट्ठा करना उसके बाद घर को बनाने का कार्य शुरू होता है जिसमें एक लंबा समय लग जाता है !

कृषि संबंधित लेख