Baadh Se Bachane Ke Upaay 

बाढ़ से बचने के उपाय

 बाढ़ से बचने के उपाय | बाढ़ से बचने के उपाय तत्कालीन उपाय  | बाढ़ से बचने के उपाय दीर्घकालीन उपाय

 

बाढ़ से बचने के उपाय तत्कालीन उपाय

सुरक्षित स्थान का चयन

बाढ़ का समाचार सुनते ही सबसे पहला काम होता है कि आप यह तय करें कि आप जिस स्थान पर है वह कितना सुरक्षित है अगर वह स्थान सुरक्षित नहीं है तो सुरक्षित स्थान पर जाने की तैयारी शुरू कर दें !

सामानों को इकट्ठा कर लें

आप हर खाने-पीने की जरूरी सामान एवं दवाइयों को इकट्ठा कर ले ! याद रखें सैलाब में जब आप अपने घर को छोड़कर जाते हैं तो वहां पर चोरी होने के भी चांसेस बहुत ज्यादा होता है ! अपने कीमती सामान एवं जरूरी कागजात को अपने साथ रखें या उसे उचित स्थानों पर छुपा दें! एक इमरजेंसी की तैयार कर लें आपके अमरजनसी कीट में यह सामान जरूर होनी चाहिए -

  • टार्च और अतिरिक्त बैटरियाँ (सेल)
  • बैटरी-चालित रैडियो/ट्रान्सिस्टर एवं मोबाइल फोन
  • प्लास्टिक एवं तिरपाल
  • वाटर जैकेट या हवा डाला हुआ ट्यूब
  • रस्सी, काटने के लिए चाकू
  • खाने के लिए सूखा सामान
  • बैन्डेज़, गौज़, कटने-जलने की दवा
  • पेट खराब, बुखार, दर्द इत्यादि की दवा
  • पीने की पानी का बोतल

घर छोड़ने की तैयारी

घर छोड़ने से पहले घर के सामान को सही जगह पर रख दें अगर आपको लग रहा है कि पानी घर के अंदर आ जाएगा तो और सामान खराब होने का चांस हो तो उसे आप बेड पर या बड़े टूलो पर रख दें या अगर आपके मकान में छत हो तो वहां पर रख दें ! घर को पूरी तरह बंद कर दें ! सम्मान का मोह ना करें अगर आपका जान बच जाएगा तो हजार उपाय है !

सुरक्षित राजस्थान कैसे पहुंचे

जब आप अपने घर से निकलते हैं तो आपके साथ महिला और बच्चें भी होते हैं ! और आप देख ले कि आप में से कितने लोग पानी में तैर सकते हैं ! जब आप तेज बहाव वाले पानी को पास करते हैं तो सावधानी बरतें ! सभी लोग एक दूसरे का हाथ पकड़कर चलें या रस्सी का उपयोग करें ! धीरे धीरे चलने की कोशिश करें क्योंकि पानी का बहाव तेज है अगर आपका पैड़ फिसला तो आपकी पूरी टीम पर मुसीबत आ जाएगा ! एक पैर को पूरी तरह स्थिर करने के बाद भी दूसरे पैर को उठाएं ! अगर जिस रास्ते को आप पास करना चाहते हैं और वहां पर पानी का बहाव तेज है उसके साथ पानी का ऊंचाई अगर 3 फीट से ज्यादा हो तो उस मार्ग पर नहीं जाएं ! पानी की ऊंचाई मापने के लिए लड़की का प्रयोग करें , पहले लड़डी को आगे रखें तब पैड़ को आगे बढ़ाएं ताकि आपको पता चल जाए आगे पानी कितना है !

सुरक्षित स्थान पर पहुंचने के बाद

अगर आप किसी रिश्तेदार के यहां रुकते हैं तो उस बात का सुनिश्चित कर लें कि आप उस पर बोझ तो नहीं बन रहे हैं ! अगर आप किसी सड़क या सरकारी भवन में रुकते हैं तो सबसे पहले तंबू या सोने की जगह का चयन कर लें उसके बाद खाना कैसे पकाएं या क्या खाएं उस समान को इकट्ठा कर लें ! इस दौरान बच्चों को पर्याप्त मात्रा में पीने का पानी देते रहें क्योंकि इस बार के समय हवा में हुमिड्यूटी ज्यादा होता है जिससे बच्चे को डिहाइड्रेशन होने का खतरा ज्यादा रहता है !

स्वास्थ्य का रखें ध्यान

बाढ़ के समय दूषित खाना खाने से बीमारी होने का खतरा होता है इसीलिए सूखे खाने का प्रयोग करें और पानी को हमेशा गर्म कर कर ही पीने की कोशिश करें ! सांप बिच्छू व मच्छरों से बचने के उपाय जरूर करें ! अगर किसी को तेज बुखार हो या उल्टी-दस्त होने पर डॉक्टरों से सलाह जरूर लें !

बाढ़ के समय अगर आप अपने घर में रहते हैं तो यह सावधानियां जरूर बढतें

अपने सोने की जगह को सुनिश्चित कर लें क्योंकि जहां पर आप सो रहे हैं वहां पर कोई बड़ा सामान गिरने के चांसेस तो नहीं है! अगर घर के अंदर पानी घुस जाए तो पलंग पर पलंग डाल कर सुरक्षित जगह बना सकते हैं ! अगर आपका घर एक मंजिल का है और पानी घर के अंदर भर जाए तो आप छत पर चला जा चले जाएं अगर बारिश हो रही हो तो बचने के लिए तिरपाल का उपयोग करें और अपने लिए जरुरी सामान को भी ऊपर ले आए ! याद रखें आपकी तरह ही सुरक्षित स्थान चाहिए होता है जहरीले सांपों एवं बिच्छूओं को, उससे अपने आप को सुरक्षित करें रात में सभी परिवार के लोग एक साथ ना सोए ! जगे हुए व्यक्ति की जिम्मेदारी होती है कि वह सब किसी का देखभाल करते रहे ! कोशिश करें कि हर घंटे का समाचार बुलेटिन को सुना करें या इंटरनेट से भी समाचार प्राप्त कर सकते हैं !

बाढ़ से बचने के उपाय दीर्घकालीन उपाय

पर्यावरण को दुरुस्त करने की जरूरत

जलवायु परिवर्तन के कारण असमान्य मानसून की बारिश से बाढ़ खतरा उत्पन्न होता है अपने भारत देश में किसी स्थान पर मानसून का बारिश जरूरत से ज्यादा हो जाता है तो कहीं पर समान्य से बारिश बहुत कम होता है ! जिस क्षेत्र में ज्यादा मानसून की बारिश होता है वहां पर बाढ़ जाए जैसे हालात बन जाते हैं !

नदियों का राष्ट्रीयकरण

भारत के सबसे बड़े वैज्ञानिक डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम ने सुझाव दिया था कि भारत के सभी नदियों को एक साथ जोड़ा जाना चाहिए जिस पर तटबंध एवं बांध का निर्माण किया जाना चाहिए ! भारत के किस क्षेत्र में पानी की बहुत ज्यादा किल्लत है तो किसी क्षेत्र में जोर से बहुत ज्यादा पानी है ! अगर सभी नदियों को जोड़ दिया जाए तो भारत में कहीं पर पानी ज्यादा नहीं होगा या कहीं पर पानी का कभी भी नहीं होगा जिससे बाढ़ जैसे हालात भी उत्पन्न नहीं होंगे !

नेपाल से आने वाले पानी का खोजना होगा हमें हल

जब कभी नेपाल में भारी बारिश होती है तो बिहार और उत्तरप्रदेश के लोगों का धड़कन बढ़ जाता है क्योंकि अक्सर देखा गया है कि वहां पर जब कभी भारी बारिश होता है तो इन क्षेत्रों में सैलाब का सितम रहता है ! राजनीतिक कारण चाहे जो भी हो हमें सोचना पड़ेगा कि नेपाल का पानी भारत तक ना आए या आए भी तो हम उसको सही से संचालित कर सकें !

नहर का निर्माण करने की जरूरत

नहर का पहला फायदा तो यह है कि सिंचाई के लिए किसानों को सस्ता पानी उपलब्ध होता है उसके साथ रिहायशी क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा भी कम हो जाता है क्योंकि यह एक बांध का भी काम करता है !

 

कृषि संबंधित लेख