नोटबंदी क्या है

नोटबंदी क्या है 

नोटबंदी क्या है, नोटबंदी के फायदे, नोटबंदी के नुकसान

नोट बंदी क्या है, भारतीय इतिहास के बड़े फैसलों में से एक है 8 नवंबर 2016 कि आधी रात से यह नोट बंदी का कानून पूरे भारत में लागू हुआ था! जिसमें 500 और 1000 के नोट को बंद करने का फैसला लिया गया था यह घोषणा तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी ने लिया था ! काला धन, जाली नोट और बेनामी संपत्ति पर लगाम लगाने के लिए यह फैसला लिया गया था और भारतीय जनता से कहा गया था कि वह अपने 500 और 1000 के नोट बैंकों या डाकघरों से बदलवा सकते हैं जिस की अवधि 30 दिसंबर 2016 रखी गई थी ! जबकि बाकी नोट वेद तरीके से चल रहे थे!

अचानक नोट बंदी कि घोषणा से मानो की पूरा भारत रुक सा गया है इसका प्रभाव हर भारतीय पर पड़ा! लोगों की लंबी कतार बैंकों के आगे देखी गई है जिसमें लोग पुराने रुपए को जमा करने और नए रुपए को लेने की कोशिश में खड़े दिखें जिसमें 100 से ज्यादा लोगों की मौत भी हुई !

काले धन वालों में खलबली सी मच गई लोग विभिन्न तरीके से अपने काले धन को छुपाने की कोशिश करने लगे, भारतीय इनकम टैक्स अधिकारी भी चौकन्ना हो गए और कई को कालेधन के आरोप में गिरफ्तार किया गया !

इस दौरान भारतीय समाज कैशलेस अर्थव्यवस्था की तरफ बढ़ता दिखा जिसमें लोग ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करना शुरू किया ! सबसे ज्यादा परेशानी गांव में रहने वाले लोगों को हुई क्योंकि वहां पर लोगों को इंटरनेट या कंप्यूटर का इस्तेमाल करना नहीं आता था !

नोटबंदी के फायदे

नोटबंदी भारत सरकार द्वारा लिया गया एक साहसिक फैसला था जिसमें नोटबंदी के अनेक फायदे देखने को मिले हैं जैसे -

डिजिटल ट्रांजैक्शन

भारतीय समाज में नोटबंदी के कारण एक महत्वपूर्ण परिवर्तन देखने को मिला जिसमें डिजिटल ट्रांजैक्शन अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ते हुए एक नया कीर्तिमान स्थापित किया ! शुरू के समय में डिजिटल ट्रांजैक्शन से लेनदेन करना थोड़ा मुश्किल लग रहा था लेकिन जब लोगों ने उसे इस्तेमाल में लाया तो, उसके लिए आसान हो गया !

नकली करेंसी लगाम

मार्केट में जो नकली करेंसी था वह बैंकों तक पहुंच नहीं पाया जिससे सरकारी खजाने को काफी फायदा हुआ ! नोटबंदी ने नकली करेंसी पर लगाम लगा दिया !

कालेधन पर लगाम

काले धन वाले के लिए यह सबसे बुरा सपना था, अचानक हुए नोटबंदी से, उसका काला धन पकड़ा गया !

आतंकवाद और नक्सलवाद

आतंकवाद एवं नक्सलवाद को सरकार ने नोटबंदी के जरिए काबू में कर लिया जिससे आतंकवादी घटना में भारी कमी देखी गई नोटबंदी के बाद !

महंगाई घटी

अचानक मार्केट से काला धन गायब होने से महंगाई कम हो गया जिससे गरीबों के लिए अच्छे दिन आ गए !

फर्जी कंपनियां हुईं बंद

नोटबंदी के बाद लगभग 2.24 फर्जी कंपनियों को बंद कर दिया गया और लाख डायरेक्टरों को अयोग्य घोषित किया गया!

लोन हुआ सस्ता

नोटबंदी के बाद लोगों ने अपने पैसे को बैंकों में जमा किया तो उस से लोगों को उसका इंटरेस्ट भी मिला और उसके साथ बैंकों के पास काफी पैसा जमा हो गया जिससे वह लोगों को सस्ते ब्याज दरों पर लोन मुहैया करा पाया !

इनकम टैक्स भरने वालों की संख्या

नोटबंदी के बाद अचानक रिटर्न भरने वालों की संख्या 25.3 फीसदी बढ़ गया यानि 56 लाख में टेक्स्ट पर भी जुड़ गये !

नोटबंदी के नुकसान

नोट की कमी

नोटबंदी के कारण शुरुआती समय में कैश की भारी किल्लत हुआ था, लोग लंबी कतारें लगाकर ATM से पैसे निकालने के लिए मजबूर थे ! किस समय नोटबंदी का ऐलान हुआ था उस समय शादियों का मौसम हुआ करता था, ऐसे में लोगों के पास नोट नहीं होने से उसे काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था!

बैंकों में भ्रष्टाचार

कई खबरों में यह दिखाया गया था कि बैंक के कर्मचारी कालेधन को सफेद करने में लगे थे जिसका आरोप भी सिद्ध हुआ था !

मजदूर हुए बेरोजगार

अचानक नोटबंदी होने से लोगों ने अपने काम को कम कर दिया जिससे मजदूर को काम मिलना कम हो गया था जिससे कुछ समय के लिए बेरोजगारी बढ़ गया था ! क्योंकि भारतीय समाज में मजदूरों को नोट से ही पेमेंट किए जाने की प्रथा वर्षों से चली आ रही थी!

कतार में मौते

बैंकों और ATM के आगे लंबी कतारों ने कई लोगों को जान गवाने पर मजबूर कर दिया था जिसे विपक्ष के नेता ने अपनी आवाज बनाया  !

बाजार का संतुलन बिगड़ा

अचानक हुए नोटबंदी के फैसले ने मानो की भारतीय बाजार का संतुलन ही खराब कर दिया क्योंकि यहां के बाजार में ज्यादा लेनदेन केश में होती थी !

नोटबंदी क्या है अब आपको तो समझ में आ गया होगा ! नोटबंदी के फायदे और नुकसान दोनों हुआ है जिसे देखने का चश्मा अलग-अलग है! किसी समय में कहा गया था कि नसबंदी श्रीमती इंदिरा गांधी द्वारा लिया गया सबसे खराब फैसला था लेकिन कुछ वर्षों के बाद लोगों को समझ में आया कि भारत का जनसंख्या सबसे ज्यादा नियंत्रण इसी फैसले ने किया था, नहीं तो भारत की आबादी और 50 करोड़ होती ! नोटबंदी के फायदे एवं नोटबंदी के नुकसान का आकलन होते रहेगा लेकिन हम चाहते हैं कि हमारा  देश एक विकसित देश बने  ! 

 

बेनाम संपति क्या होता है ? 

काला धन क्या है ? 

भारत के नए कानून के अनुसार सोने चांदी रखने की सीमा  ! 

अपने पसंद के टॉपिक पर क्लिक करें ! 

पूर्णिया न्यूज़ और इंफॉर्मेशन | अररिया न्यूज और इंफॉर्मेशन | खेती बाड़ी की जानकारी | नौकरी की जानकारी |सरकारी योजनाओं की जानकारी | स्वास्थ संबंधित जानकारी | पैसा कैसे कमाएं उसकी जानकारी| शिक्षा की जानकारी | सामान और सर्विस खरीदने बेचने के लिए | शादी विवाह संबंधित |अपना ऑनलाइन प्रोफाइल बनाएं |चर्चित लोग |  आपकी आवाज, कुल्हैया.कॉम  |