एम्बुलेंस सेवा, ट्रॉमा सेंटर व मेडिकल इमरजेंसी सेवाओं की जानकारी

बिहार में एम्बुलेंस सेवा, ट्रॉमा सेंटर व मेडिकल इमरजेंसी सेवाओं की जानकारी 

एम्बुलेंस, 108 एम्बुलेंस, एम्बुलेंस का हिंदी नाम, 102 एम्बुलेंस, एम्बुलेंस इन हिंदी, 102 एम्बुलेंस बिहार, 102 एम्बुलेंस बिहार 2017, १०२ एम्बुलेंस बिहार न्यूज़, एम्बुलेंस सेवा

एम्बुलेंस इन हिंदी

ट्रॉमा, एक्सीडेंट और मेडिकल इमरजेंसी होने पर, अक्सर जानकारी के अभाव होने से परेशानी और बढ़ जाता है ! बिहार की आबादी 11 करोड़ से ज्यादा है उसके अपेक्षा मेडिकल इमरजेंसी की सेवा बहुत अच्छा नहीं है ! आपको इस लेख के द्वारा, बिहार में मौजूदा समय में मेडिकल इमरजेंसी के लिए क्या सुविधाएं उपलब्ध हैं आपके रूबरू करना चाहता हूं !

102 एम्बुलेंस बिहार सेवा

102 एम्बुलेंस बिहार सेवा की शुरुआत वर्ष 2017 में हुआ था ! बिहार में में सरकारी एंबुलेंस की संख्या लगभग 1100 है और आने वाले समय में यह संख्या और बढ़ने की उम्मीद है ! 102 एम्बुलेंस नंबर पर जब कोई कॉल करते हैं तो वह काफी घबराए हुए होते हैं और वह पूरी सूचना नहीं दे पाते जिसके वजह से एंबुलेंस समय पर नहीं पहुंच पाता है !

इन बातों का रखें ध्यान

  • कॉल कहां से कर रहे हैं, पूरा पता बताएं.
  • मेडिकल इमरजेंसी किस प्रकार का है.
  • कितने लोग हैं.
  • कॉलर का नाम और संपर्क नंबर

108 एम्बुलेंस सेवा

108 एम्बुलेंस सेवा भारत में आपातकालीन सेवाओं के लिए एक मुफ्त टेलीफोन नंबर है यह वर्तमान में 21 राज्यों (आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, गोवा, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मेघालय, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में चालू है। ) और दो केंद्र शासित प्रदेशों (दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव।) के लिए है  !

प्राइवेट एंबुलेंस सेवा

बिहार के जिला मुख्यालय में कुछ प्राइवेट अस्पताल भी एंबुलेंस सेवा प्रदान करते हैं ! आपको वहीं से उसका नंबर ले सकते हैं और मोबाइल में सेव करके रख सकते हैं ! नीचे कुछ प्राइवेट एंबुलेंस कंपनियों का नाम और मोबाइल नंबर लिखा है ! इसके सर्विस के बारे में पता कर के ही, सेवा का लाभ लें .

  • पंचमुखी एयर और ट्रेन एम्बुलेंस सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड +91-7250509334, 7070569645
  • सिंह एम्बुलेंस सर्विसेज - 9386802092
  • स्काई एयर एम्बुलेंस सर्विसेज - 7070555315
  • एे म बी एम्बुलेंस - 9334164031

बिहार में ट्रॉमा सेंटर

भारत में 118 ट्रॉमा सेंटर का स्थापना होना है जो राष्ट्रीय राजमार्ग सहयोग से बनेगा ! ट्रॉमा सेंटर के लिए केंद्र सरकार शत प्रतिशत राशि देगी। इस संदर्भ में बिहार में भी 9 ट्रामा सेंटर का स्थापना होना है ! जिसके नाम निम्नलिखित है -

  1. सिविल अस्पताल, किशनगंज
  2. जिला अस्पताल, पूर्णिया
  3. सिविल अस्पताल, मधेपुरा
  4. दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल, दरभंगा
  5. एसके मेडिकल कॉलेज अस्पताल, मुजफ्फरपुर
  6. सिविल अस्पताल, गोपालगंज
  7. ई डब्ल्यू सिविल अस्पताल, झांजरपुर, मधुबनी
  8. सदर अस्पताल, सासाराम, रोहतस
  9. जीक्यूएएन मगध मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल, गया

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के अनुसार कि राज्य में 9 स्थानों पर साल भर के अंदर ट्रॉमा सेंटर शुरू हो जाएगा। किशनगंज, मधेपुरा, गोपालगंज, मधुबनी और रोहतस तृतीय ग्रेट का ट्रामा सेंटर बनेगा जब की पूर्णिया, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, और गया द्वितीय ग्रेट का ट्रामा सेंटर बनेगा !

मेडिकल कॉलेज में इमरजेंसी सेवा

बिहार के सरकारी एवं प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों की इमरजेंसी सेवाएं लोगों को अब तक राहत देते आ रहा है तो नोट कर लें बिहार में मेडिकल कॉलेज के नाम, जो आपके लिए कभी काम का हो सकता है !
बिहार राज्य में सिर्फ 13 मेडिकल कॉलेज हैं जिनमें 9 सरकारी हैं और चार प्राइवेट मेडिकल कॉलेज हैं !

  1. Anugrah Narayan Magadh Medical College, Gaya   
  2. Darbhanga Medical College, Lehriasarai
  3. Government Medical College, Bettiah
  4. Indira Gandhi Institute of Medical Sciences,Sheikhpura, Patna
  5. Jawaharlal Nehru Medical College, Bhagalpur
  6. Katihar Medical College, Katihar
  7. Lord Buddha Koshi Medical College and Hospital, Saharsa
  8. Mata Gujri Memorial Medical College, Kishanganj
  9. Nalanda Medical College, Patna
  10. Narayan Medical College & Hospital, Sasaram
  11. Patna Medical College, Patna
  12. Shri Krishna Medical College, Muzzafarpur
  13. Vardhman Institute of Medical Sciences, Pawapuri, Nalanda

बिहार में 4 हजार से ज्यादा लोगों की सड़क दुर्घटना में होती है मौत

बिहार राज्य में अब 4900 किलोमीटर नेशनल हाईवे, 4 हजार किलोमीटर स्टेट हाईवे व 11 हजार किलोमीटर जिला सड़कें हैं.

सड़क दुर्घटना के बाद तुरंत समुचित इलाज के अभाव में 4 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो जाती है ! एंबुलेंस की व्यवस्था की कमी होने और पर्याप्त ट्रॉमा सेंटर नहीं होने से ज्यादातर लोगों की मौत का कारण होता है ! गांव के दूरदराज इलाके में जब किसी महिला को डिलीवरी पेन होता है तो ऐसे में एंबुलेंस की आवश्यकता होती है, नहीं मिलने पर वह समय पर अस्पताल नहीं पहुंच पाती हैं ! नवजात को जन्म देने में माँ की मौत सबसे ज्यादा बिहार राज्य में होता है , इसमें हमें जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता है !

एम्बुलेंस का हिंदी नाम

एम्बुलेंस का हिंदी नाम और एंबुलेंस की लिखावट उल्टा क्यों होता है आदि क्वेश्चन के बारे में अक्सर लोग इंटरनेट पर सर्च करते हैं  ! एम्बुलेंस का हिंदी नाम रोगी वाहन होता है, जिसमें बहुत बीमार मरीज को एक जगह से दूसरे जगह पर ले जाते हैं, उसे अंग्रेजी में एम्बुलेंस कहते हैं ! एंबुलेंस का लिखावट उल्टा इसलिए होता है कि आगे चल रहे वाहन के साइड मिरर में उसे सीधा दिखाई पड़े, क्योंकि कॉन्वेक्स मिरर में लेटरल इन वर्जन होता है! आगे चला रहे वाहन वाले अपने पीछे दिखाई देने वाले एंबुलेंस को साइड देता है ताकि वह जल्दी से अपने गंतव्य स्थान पर पहुंच सके !

सर्दी जुकाम से बचने के उपाय

बिहार समाचार - Related Searches 

NEET Related Searches

IIT संबंधित खोजें

आई आई टी की फीस

आई आई टी की योग्यता

क्या आई आई टी की परीक्षा बिना कोचिंग का क्या जा सकता है !

आईआईटी क्या है  ?

Bihar Board 12th Exam Date 2018