History of Bihar in Hindi

By: Abuzar Niyazi Last Edited: 07 Mar 2019 02:33 AM

history of bihar in hindi, बिहार का इतिहास

History of Bihar in Hindi शब्द को आप इंटरनेट पर सर्च करते हैं ! आप बिहार का इतिहास, बिहार का राजनीतिक इतिहास और बिहार का प्राचीन इतिहास जानना चाहते हैं तो, कृपया इस लेख को पूरा पढ़े !

बिहार का इतिहास

बिहार का इतिहास को पूरा नहीं पढ़ा तो आपका भारत का इतिहास अधूरा रह जाएगा ! बौध धर्म के बहुत से लोग यहाँ विहार करने के लिए आते थे इसलिए इस राज्य का नाम बिहार पड़ा था !

अर्धांगिनी माता सीता, लव-कुश, भगवान् बुध, गुरु गोविद सिंह, भगवान महावीर, आचार्य चाणक्य, आर्यभट, अशोक और प्रथम राष्टपति डॉक्टर राजेंद्र प्रशाद का जन्मभूमि बिहार है !

भारत के राष्ट्रीय चिह्न अशोक लाट एवं राष्ट्रीय ध्वज में चक्र अशोक के सिंह स्तंभ पर बने चक्र का है ! दुनिया का सबसे पहला गणराज्य का उदय बिहार के वैशाली जिले में हुआ था!

बिहार का प्राचीन इतिहास

बिहार का प्राचीन इतिहास कई धर्मों से जुड़ा है ! बिहार का सीतामढ़ी जिला अर्धांगिनी माता सीता का जन्म रहा है ! बौद्ध धर्म बिहार के गया जिला से जुड़ा है !

जैन धर्म के संस्थापक भगवान महावीर का जन्म बिहार का मौजूदा राजधानी पटना (पाटलिपुत्र) में हुआ था ! सिख धर्म के आखरी गुरु गुरु गोविंद सिंह का जन्म बिहार के पटना साहिब हुआ था !

अगर शासन की बात करें तो अंग, मगध और वज्जीसंघ का शासन प्राचीन में रहा है ! सम्राट अशोक का शासन करने की शैली विश्व इतना प्रसिद्ध हुआ था कि, एलेक्जेंडर (सिकंदर) ने अध्ययन करने के लिए अपने दूत मेगास्थनीज को पटना भेजा था !

प्राचीन काल में पाटलीपुत्रा (पटना) भारत का राजधानी था ! जबकि राजगीर क्षेत्र मौयकालीन राजा बिंबिसार का राजधानी हुआ करता था !

प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय

जब दुनिया के बाकी हिस्सों में लोग पढ़ना लिखना नहीं जानते थे उस समय नालंदा बिहार में विश्वविद्यालय हुआ करता था जिसके कुलपति आर्यभट्ट थे ! आर्यभट महान गणितग्य और खगोल के बड़े वैज्ञानिक थे! 

मध्यकाल में बिहार विदेशी शासकों का आक्रमण केंद्र बना हुआ था जिस कारण बिहार को उस समय काफी क्षति हुई थी !

मुगल काल में भारत का राजधानी दिल्ली था और उस समय के सबसे लोकप्रिय शासक का नाम शेरशाह सूरी था, सासाराम जिले का नाम शेरशाह सूरी के नाम पर है !

मुगल के बाद ब्रिटिश का शासन शुरू हो गया था उस समय बिहार बंगाल राज्य का हिस्सा हुआ करता था जिसका कंट्रोल कोलकाता से होता था !

22 मार्च 1912 के बंगाल का विभाजन के बाद बिहार अलग राज्य बना था लेकिन 1936 में बिहार से उड़ीसा को अलग राज्य बना दिया गया था ! आजादी के बाद 1956 में

पुरुलिया जिला  बिहार से हटाकर पश्चिम बंगाल में जोड़ दिया गया था ! 15 नवम्बर, 2000 को बिहार से झारखंड को अलग राज्य बनाया गया था !