Informal Letter in Hindi

About Author: M. S. Nashtarkk

Last Edited: 09 Oct 2019 03:26 AM

informal letter in hindi

Informal Letter in Hindi  के शब्दों के जरिए अगर आप सभी प्रकार के अनौपचारिक पत्राचार के सभी गुणों को जानना चाहते हैं तो, मैं कह सकता हूं कि यह आपके लिए बेहतरीन लेख है, कृपया लेख को अंत तक जरूर देखें !

Letter writing in hindi for class 10

Informal Letter को हिंदी में अनौपचारिक पत्र (व्यक्तिगत पत्र) कहते हैं, इस तरह का पत्र उसे लिखा जाता है जिससे हमारा व्यक्तिगत संबंध होता है ! व्यक्तिगत पत्र में सुख दुख का ब्यौरा के साथ विवरण होता है ! इस तरह का पत्र परिवार के लोगों, मित्रों एवं निकट संबंधियों के लिए लिखे जाते हैं !

Format of Informal Letter in Hindi

फॉर्मेट यानी प्रारूप को अगर आप एक बार समझ जाएंगे तो आपके लिए जिंदगी भर के लिए पत्र लिखना आसान हो जाएगा और आप गुणवत्तापूर्ण पत्र किसी को भी लिख पाएंगे !

अनौपचारिक पत्र के प्रारूप

जिस पत्र में सुलेख के नियमों का सही ध्यान रखा जाए तो उस पत्र को गुणवत्तापूर्ण माना जाता है ! हिंदी अनौपचारिक पत्र लेखन को तीन भागों में बांटा जा सकता है -

  • आरंभ
  • मध्य
  • अंत

आरंभ

अनौपचारिक पत्र के आरंभ में संबोधन, अभिवादन, स्थान और दिनांक आदि का उल्लेख किया जाता है !

माता-पिता, बड़े भाई, बड़ी बहन, चाचा-चाची, मामू मामू, सास ससुर और बड़े शाला एवं साली को लिख रहे हैं तो शुरुआत में संबोधन तौर पर कोई एक शब्द का प्रयोग कर सकते हैं - माननीय, आदरणीय, पूज्यनीय, पूज्य, परम पूज्य और परम आदरणीय !

मित्र या दोस्त को पत्र लिख रहे हैं तो शुरुआत में संबोधन तौर पर कोई एक शब्द का प्रयोग कर सकते - प्रिय, मित्र, मित्रवर, प्रिय बंधु, बंधुवर और प्रिय !

पति या अपनी पत्नी को पत्र लिख रहे हैं तो शुरुआत में संबोधन तौर पर कोई एक शब्द का प्रयोग कर सकते  - प्रिय प्राण, प्रियतमे, प्राण वल्लभे, चिर सहचरी, और प्राणेशवरी !

अपने परिवार या रिश्तेदार में किसी छोटे को अगर आप पत्र लिख रहे हैं तो शुरुआत में संबोधन तौर पर कोई एक शब्द का प्रयोग कर सकते - प्रिय, परम प्रिय और प्रियवर  !

मध्य

अनौपचारिक पत्र के मध्य भाग में जिस उद्देश्य के लिए पत्र लिखा जाता है उस उद्देश्य को पूर्ण रूप से लिखा जाता है ! सुख दुख से संबंधित बातों को भी इसी सत्र में लिखा जाता है !

अंत में

पत्र लिखने वाले को अपना संबंध स्थापित करने के लिए जैसे तुम्हारा, तुम्हारा ही, तुम्हारा अपना या आपका आज्ञाकारी आदि शब्दों का प्रयोग करना चाहिए !

माता-पिता, बड़े भाई, बड़ी बहन, चाचा-चाची, मामू मामू, सास ससुर और बड़े शाला एवं साली को लिख रहे हैं तो अंत में  - आपका सदैव आज्ञाकारी, स्नेह पात्र, स्नेह भाजक, सेवक कृपा-पात्र और स्नेहाकांक्षी (इनमें से कोई एक) आदि शब्द के साथ अंत कर सकते हैं !

अगर आप पत्र मित्र या दोस्त को लिख रहे हैं तो शुरुआत - प्रिय, मित्र, मित्रवर, प्रिय बंधु, बंधुवर या प्रिय शब्द से कर सकते हैं !

अगर आप अपने पति या अपनी पत्नी को पत्र लिख रहे हैं तो शुरुआत -  प्रिय प्राण, प्रियतमे, प्राण वल्लभे, चिर सहचरी, और प्राणेशवरी शब्द के प्रयोग कर सकते हैं !

अपने परिवार या रिश्तेदार में किसी छोटे को अगर आप पत्र लिख रहे हैं तो शुरुआत - प्रिय, परम प्रिय और प्रियवर शब्द का प्रयोग कर सकते हैं ! 

Hindi letter writing topics

पिता के नाम पत्र लिखने का फॉर्मेट



                                     परीक्षा भवन, नई दिल्ली

                                     दिनांक - 27 जून 2018



पूज्य पिताजी,

सादर प्रणाम

 

आपका पत्र प्राप्त हुआ - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - -

 

                                       आप पर सदैव आज्ञाकारी

                                                नीरज कुमार

   

 

मित्र के नाम पत्र लिखने का फॉर्मेट



                                   परीक्षा भवन, नई दिल्ली

                                   दिनांक - 27 जून 2018

 

प्रिय मित्र राधेश्याम,

सस्नेह नमस्कार

 

आशा है कि तुम सपरिवार कुशल - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - -

 

                                       तुम्हारा मित्र

                                          पंकज

 

पति के नाम पत्र लिखने का फॉर्मेट

 

                                   परीक्षा भवन, नई दिल्ली

                                   दिनांक - 27 जून 2018

 

प्रिय प्राण,

नमस्कार

 

आपका पत्र मिला, यह जानकर प्रसन्नता हुई कि - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - -

 

                                                 तुम्हारी ही

                                                   सोनम

 

अपने छोटे भाई के नाम पत्र लिखने का फॉर्मेट



                                           परीक्षा भवन, नई दिल्ली

                                           दिनांक - 27 जून 2018



प्रिय राकेश,

शुभाशीष

 

कल तुम्हारे प्रधानाध्यापक का पत्र मिला - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - -

 

                                           तुम्हारा बड़ा भाई

                                                  रमेश

     

दोस्तों, उम्मीद करता हूं कि आपको Informal Letter in Hindi या format of informal letter in hindi से संबंधित लेख पसंद आया होगा ! किसी अन्य तरह के पत्र लिखने की जानकारी चाह रहे हैं तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें !

संबंधित लेख - जरूर पढ़ें

Related Posts