शिक्षा के क्षेत्र में रोजगार के अवसर

 शिक्षा के क्षेत्र में रोजगार के अवसर

होम ट्यूशन से लेकर कॉलेज तक और अन्य विकल्प

शिक्षा के क्षेत्र में रोजगार के अवसरों को तलाश रहे हैं तो यह लेख आपके लिए बेहतरीन लेख हैं, क्योंकि आप इस लेख में पाएंगे होम ट्यूशन से लेकर कॉलेज तक शिक्षक बन करके मोटी कमाई के साथ इज्जत कैसे पा सकते हैं ? कृपया लेख को अंत तक जरूर पढ़ें !

भारत में बहुत पहले से ही टीचिंग बेहद गरिमा का प्रोफेशन माना जाता रहा है ! एक साल से 2 महीने से ज्यादा छुट्टी और टेंशन फ्री नौकरी सिर्फ आपको शिक्षा का क्षेत्र ही दे सकता है !

अगर आपने कैरियर का चुनाव सही प्लानिंग के साथ करेंगे तो आपको जिंदगी में कभी भी परेशानी नहीं होगी ! शिक्षा के क्षेत्र में रोज़गार की कभी भी कमी नहीं रही है ! भारत की आबादी अब पहले से ज्यादा साक्षर हो रहा और आने वाले समय शिक्षकों की मांग बढ़ना तय है !

शिक्षा के क्षेत्र में रोजगार के अवसरों का चुनाव कैसे करें

होम ट्यूशन

शिक्षा के क्षेत्र में रोज़गार के अवसर सरकारी क्षेत्र के साथ प्राइवेट सेक्टर में भी मौजूद हैं, अगर काबिलियत हो तो किसी भी क्षेत्र में है अच्छी कमाई की जा सकती है ! इसके लिए पहले से पता होना चाहिए हमें कौन सा कोर्स चुनाव करना चाहिए और उसके बाद ट्रेनिंग कहाँ से लेना चाहिए ?

पहले आपको सरकारी नौकरी के विकल्प पर आपका ध्यान दिलाना चाहूंगा, उसके बाद लेख दूसरे हिस्से में बताऊंगा की शिक्षा में रोजगार प्राइवेट सेक्टरों में कैसे बेहतर है !

शिक्षा के क्षेत्र में सरकारी नौकरी

  • प्राइमरी और मध्य विद्यालय
  • उच्च विद्यालय
  • उच्चतर विद्यालय (+2)
  • केंद्रीय/नवोदय /सैनिक
    विद्यालय
  • कालेज/युनिवर्सिटी

प्राइमरी और मध्य विद्यालय

भारत के राज्यों में राज्य सरकार की प्राइमरी और मध्य विद्यालय नौकरी पाने के लिए 12वीं की डिग्री के साथ 2 वर्षीय डिप्लोमा इन एजुकेशन या बी.टी या ई.टी.ई या समक्ष होना अनिवार्य है !

जैसे बिहार एवं उत्तर प्रदेश में टीईटी (टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट) शिक्षक बनने के लिए पास करना अनिवार्य है, वैसे ही भारत के अन्य राज्यों में भी इस तरह का परीक्षाओं का आयोजन होता है !

जब आप टीईटी पास कर जाते हैं, तभी आप प्राइमरी और मध्य विद्यालय नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं !

उच्च विद्यालय

भारत के राज्यों में राज्य सरकार की उच्च विद्यालय नौकरी पाने के लिए ग्रेजुएशन की डिग्री के साथ 2 वर्षीय बीएड (बैचलर ऑफ एजुकेशन) या समक्ष होना अनिवार्य है !

जैसे बिहार एवं उत्तर प्रदेश में टीईटी (टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट) शिक्षक बनने के लिए पास करना अनिवार्य है, वैसे ही भारत के अन्य राज्यों में भी इस तरह का परीक्षाओं का आयोजन होता है !

जब आप टीईटी पास कर जाते हैं, तभी आप उच्च विद्यालय नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं !

उच्चतर विद्यालय (+2)

भारत के राज्यों में राज्य सरकार की उच्चतर विद्यालय नौकरी पाने के लिए पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री के साथ एमएड (मास्टर ऑफ एजुकेशन) या समक्ष होना अनिवार्य है !

जैसे बिहार एवं उत्तर प्रदेश में टीईटी (टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट) शिक्षक बनने के लिए पास करना अनिवार्य है, वैसे ही भारत के अन्य राज्यों में भी इस तरह का परीक्षाओं का आयोजन होता है !

जब आप टीईटी पास कर जाते हैं, तभी आप उच्चतर विद्यालय नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं !

केंद्रीय / नवोदय / सैनिक विद्यालय

भारत सरकार और केंद्र शासित प्रदेशों में सरकारी, केंद्रीय, नवोदय और सैनिक विद्यालय नौकरी पाने के लिए योग्यताएं -

कक्षा 5 तक - 12वीं की डिग्री के साथ 2 वर्षीय डिप्लोमा इन एजुकेशन या बी.टी या ई.टी.ई या समक्ष होना अनिवार्य है !

कक्षा 8 तक - ग्रेजुएशन की डिग्री के साथ 2 वर्षीय बीएड (बैचलर ऑफ एजुकेशन) या समक्ष होना अनिवार्य है !

कक्षा 12वीं तक - पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री के साथ एमएड (मास्टर ऑफ एजुकेशन) या समक्ष होना अनिवार्य है !

भारत सरकार और केंद्र शासित प्रदेशों में सरकारी, केंद्रीय, नवोदय और सैनिक विद्यालय नौकरी के लिए अप्लाई करने के लिए टीईटी की जगह सीटीईटी / CTET (सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट) का टेस्ट पास करना अनिवार्य है !

कालेज / युनिवर्सिटी 

कालेज या युनिवर्सिटी नौकरी पाने के लिए पोस्ट ग्रेजुएट / पीएचडी के साथ यूजीसी नेट क्वालीफाई करना अनिवार्य है!

किसी भी कॉलेज में लेक्चरर की नौकरी पाने के लिए यूजीसी नेट परीक्षा में पास होना अब जरूरी हो गया है! यह परीक्षा साल में दो बार दिसंबर और जून में आयोजन की जाती है !

नेट एग्जाम में तीन पेपर होते हैं ! उम्मीदवार अंग्रेजी, हिंदी के अलावा किसी अन्य माध्यम में परीक्षा दे सकते हैं ! पहले पेपर में जनरल नॉलेज, टीचिंग एप्टीट्यूट, रीजनिंग और दूसरे तथा तीसरे पेपर में चुने गए विषय से सवाल पूछे जाते हैं ! इस परीक्षा को पास करने के बाद उम्मीदवार को एक सर्टिफिकेट दिया जाता है जो कई सालों तक मान्य रहता है.

प्राइवेट सेक्टरों में शिक्षा रोजगार

  • प्राइवेट स्कूल
  • प्राइवेट कालेज
  • प्राइवेट/होम ट्यूशन
  • कोचिंग सेंटर
  • आनलाइन ट्यूशन
  • कंटेंट राइटर /नोट्स मेकर

प्राइवेट स्कूल

प्राइवेट स्कूल यानी गैर सरकारी स्कूलों में शिक्षा के क्षेत्र में नौकरी पाने के लिए शिक्षकों के लिए ट्रेनिंग प्रोग्राम अनिवार्य हो गया है ! बीएड और डीएड की जगह या अनट्रेंड शिक्षकों के लिए केंद्र सरकार ने पत्राचार के द्वारा डी एल एड / Diploma in Elementary Education (D.El.Ed) कोर्स शुरू किया है !

डी.एल.एड डिग्री अब अनिवार्य है प्राइवेट स्कूल में नौकरी पाने के लिए या जो शिक्षक पहले से ही प्राइवेट स्कूलों में काम कर रहे हैं तो उसे भी यह डिग्री पत्राचार के द्वारा करना पड़ेगा !


प्राइवेट स्कूल में नौकरी पाना मुश्किल है क्योंकि आप स्कूलिंग बैकग्राउंड अच्छा होने चाहिए और आप का अंग्रेजी भी अच्छी होनी चाहिए! अगर आप यह दोनों चीज ठीक है तो आप आसानी से प्राइवेट स्कूलों में आकर्षक सैलरी वाला नौकरी मिल जाएगा! बाकी योग्यता सरकारी स्कूलों होती है !

प्राइवेट कालेज 

अब प्राइवेट कॉलेजों में भी नौकरी पाने के लिए सरकारी कॉलेजों की तरह योग्यता होनी चाहिए और उसके साथ आपका कम्युनिकेशन स्किल भी ठीक होना चाहिए !

प्राइवेट / होम ट्यूशन 

प्राइवेट या होम ट्यूशन उन लोगों के लिए ज्यादा उचित है जो किसी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं या नौकरी नहीं कर रहे हैं !

होम ट्यूशन अगर आप कैरियर बनाना चाहते हैं तो, यह बात याद रखें कि डिग्री से ज्यादा जरूरी होता है नॉलेज और आपकी समझाने की क्षमता कितनी है ?

विषय की नॉलेज के साथ अगर आपका समझाने का तरीका बेहद सटीक है तो आपको मन चाहा ट्यूशन फीस मिल सकता है !

कोचिंग सेंटर


कोचिंग सेंटर में पढा़ने के लिए डिग्री से ज्यादा नॉलेज की जरूरत होती है ! अगर आप का समझाने का तरीका सटीक है तो आप इस क्षेत्र में भविष्य उज्ज्वल है ! आप अपना
कोचिंग सेंटर खोलन सकते हैं या बड़े कोचिंग सेंटर में भी नौकरी पा सकते हैं !


बड़े ब्रांडेड कोचिंग सेंटर नौकरी पाने के लिए, रिटेन टेस्ट के अलावा क्लास रूम डेमो टेस्ट और इन्टरव्यू देना होगा है !

क्लास रूम डेमो टेस्ट - आपके विषय से रैंडम कोई भी टॉपिक चुना जाता है और आप को पढ़ाने के लिए कहा जाएगा ! इस क्लास रूम में स्टुडेंट की जगह वरिष्ठ शिक्षकों का पैनल बैठा होगा !


अगर कहा जाए तो शिक्षा के क्षेत्र में इसे एसिड टेस्ट कहा जा सकता है ! अब बात सैलरी की, आप को किसी भी टीचिंग फील्ड से ज्यादा सैलरी यहाँ मिल सकता है ! आपने जैसे कि सुना होगा बहुत से बड़े डॉक्टर, कॉलेज के प्रोफेसर, जैसे दिल्ली, कोटा और पटना के कोचिंग सेंटर में पढ़ाते हैं  !

आनलाइन ट्यूशन

यह एक नया फील्ड है यहाँ सब कुछ कोचिंग सेंटर जैसा ही है लेकिन आप को इस फील्ड अच्छा करने के लिए कंप्यूटर का नॉलेज के साथ अंग्रेजी भी अच्छी होनी चाहिए! आप नेशनल के साथ साथ इन्टरनेशनल स्टुडेंट्स को ट्यूशन दे सकते हैं और मनचाहा फीस ले सकते हैं!


नोट्स मेकर / कंटेंट राइटर

शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के लिए यह एक बेहतरीन विकल्प है ! अगर आपको किसी भी विषय का अच्छा नॉलेज हो तो आप किसी भी वेबसाइट के लिए नोट्स मेकर बन सकते हैं !

कंटेंट राइटर के तौर पर आज के समय हजारों की संख्या में नौकरी मौजूद है, मैगजीन, न्यूज़पेपर और वेबसाइट के लिए कंटेंट लिख सकते हैं, जैसे कि मैं कुल्हैया.कॉम के लिए लिख रहा हूँ !

यह एक पार्ट टाइम काम है, आप कोई भी नौकरी करते समय इस काम को अपना सकते हैं अपने बेकार टाइम को पहले से ज्यादा कमाऊ बना सकते हैं !

दोस्तों, उम्मीद करता हूं कि आप को शिक्षा के क्षेत्र में रोजगार के अवसर के साथ साथ शिक्षा रोजगार और होम ट्यूशन से संबंधित जानकारी मिल गया होगा, शिक्षा से संबंधित अन्य जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें !

बी एड और डीएड के लिये योग्यता और विकल्प

सीटीईटी - CTET की संपूर्ण जानकारी

B.Ed full form in Hindi

बीएड की संपूर्ण जानकारी