शेयर बाजार क्या होता है

शेयर बाजार क्या होता है | शेयर कैसे खरीदते है | शेयर ट्रेडिंग क्या है

 

शेयर बाजार क्या होता है और भारतीय शेयर बाजार की बारीकियों को आपके सामने रखूंगा ताकि आप इस निवेश को अच्छे से समझ सके ! दोस्तों इस लेख को अंत तक पढ़े आपका नॉलेज जरूर बढ़ जाएगा ! शेयर मार्केट में अपना कैरियर देखते हैं या उससे रुपया कमाना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए वाकई में फायदेमंद है !

शुरुआत में आपको समझाना चाहता हूं कि बाजार क्या होता है, बाजार वह स्थान होता है जहां पर लोग अपनी सामान बेचते और खरीदते हैं ! शेयर बाजार भी एक तरह का बाजार है जहां पर कंपनियां अपने निवेशकों के लिए शेयर बेचते हैं और निवेशक उसे खरीदते हैं ! हर कंपनी अपने धन को बढ़ाने के लिए अपने शेयर को मार्केट में उतारते हैं ! ग्राहक यानी निवेशक अपने निवेश राशि के अनुसार शेयर खरीदते हैं !

शेयरों की खरीद-बिक्री स्टॉक एक्सचेंज के नेटवर्क से जुड़े कंप्यूटर के जरिए होता है! आज के समय सभी शेयर डीमटीरिअलाइज़्ड फॉर्म में होता है जिसे इंटरनेट के द्वारा दुनिया में कहीं पर भी बैठकर खरीदा जा सकता है !

शेयर कैसे खरीदते है

शेयर खरीदने का तरीका आज के समय काफी आसान हो गया है जिससे आप दुनिया में कहीं पर भी बैठकर ऑनलाइन खरीद सकते हैं ! शेयर कैसे खरीदें यह आज एक बड़ा प्रश्न चिन्ह नहीं है ! आज के समय ज्यादातर लोग इंटरनेट से जुड़े हैं उसके पास बेहतरीन स्मार्टफोन, कंप्यूटर व लैपटॉप आदि मौजूद हैं !

ऑनलाइन शेयर खरीदने के लिए आपके पास एक डीमैट  अकाउंट होना चाहिए ! डीमैट अकाउंट सेविंग अकाउंट के तरह ही होता है जिससे आप किसी भी बैंक से 500 से 1000 रुपए का सालाना शुल्क देकर खुलवा सकते हैं ! डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए सेविंग बैंक अकाउंट की तरह ही आपको ID प्रूफ पैन कार्ड आदि होने चाहिए होता है !

डीमैट अकाउंट को सेविंग अकाउंट से कनेक्ट करना होता है ! जब आपके डीमैट अकाउंट में सेविंग अकाउंट से पैसे आ जाता है उसके बाद आप शेयर की ट्रेडिंग कर सकते हैं !

शेयर ट्रेडिंग क्या है  

शेयर ट्रेडिंग का मतलब होता है, शेयर को लाभ के लिए खरीदना और बेचना ! शेयर खरीदना बहुत ही आसान होता है आप विकल्प को चुनकर सेकेंडों में शेयर को खरीद और बेच कर कमा सकते हैं एक बड़ा रकम! लेकिन शेयर में निवेश करने से पहले आपको बहुत ज्यादा रिसर्च करना पड़ेगा, क्योंकि शेयर बाजार में शेयरों का दाम कभी भी स्थिर नहीं रहता है ! जब शेयर का दाम कम होता है तो वह समय शेयर खरीदने का सबसे अच्छा समय माना जाता है ! आप ने जो शेयर खरीदा है, उसका दाम बढ़ जाए तो उसे आप बेच सकते हैं ! शेयर मार्केट में ट्रेडिंग बहुत कम राशि से शुरू किया जा सकता है !

शेयर ट्रेडिंग के प्रकार

शेयर ट्रेडिंग के विभिन्न प्रकार होते हैं जरा गौर से पढ़िए वरना आपको बड़ा नुकसान हो सकता है !

इंट्रा डे ट्रेडिंग (Intra Day Trading)

भारत में शेयर ट्रेडिंग सुबह के 9:15 में शुरू हो जाता है जबकि शाम के 3:30 पर बंद हो जाता है ! इसमें निवेशक कमाने के मनसा से 1 दिन के अंदर ही शेयर को खरीद कर मुनाफा कमा कर उसे बेच देते हैं, उसे इंट्रा डे ट्रेडिंग कहते हैं! इस प्रकार की ट्रेडिंग करने के लिए ब्रोकर कंपनियां आपके डीमैट अकाउंट के बैलेंस की तुलना पर 20 गुना मार्जिन आप को मुहैया कराता है ! यानी कि आप उधार लेकर शेयर खरीद सकते हैं और उसी दिन बेच कर उसे वापस कर सकते हैं! इंट्रा डे ट्रेडिंग उसके लिए ज्यादा उपयुक्त है जो शेयर मार्केट में अपना कैरियर देखता हो  !

स्कैल्पर ट्रेडिंग ( Scalper Trading)

यह एक ऐसा ट्रेंडिंग जिसमें शेयरों को 5 से 10 मिनट के अंदर ही बेच दिया जाता है उसे स्कैल्पर ट्रेडिंग कहते हैं! आपको पता होगा जैसे वित्त मंत्रालय का कोई कानून आने वाला है या आर्थिक जगत का कोई बड़ा न्यूज़ आने वाला है तो ऐसे में शेयर मार्केट में भूचाल आ जाता है ! शेयर मार्केट के पुराने खिलाड़ी इस तरह के ट्रेडिंग करते हैं जिस में जोखिम सबसे ज्यादा होता है ! स्कैल्पर ट्रेडिंग के लिए ब्रोकर कंपनियाँ मार्जिन मुहैया करवाता है !

स्विंग ट्रेडिंग (Swing Trading)

इस तरह का ट्रेडिंग लंबे समय के लिए किया जाता है जिसको हफ्तों व महीनों में भी पूरा किया जाता है, स्विंग ट्रेडिंग कहते हैं ! कोई निवेशक अगर लंबे समय के लिए निवेश करना चाहता है तो उसके लिए इस तरह का ट्रेडिंग बेहतर साबित हो सकता है ! स्विंग ट्रेडिंग के लिए ब्रोकर कंपनियां कोई मार्जिन मुहैया नहीं करवाता है !

 

दोस्तों अंत में मैं एक बात कहना चाहूंगा कि निवेश करने से पहले शेयर बेचने वाली कंपनी का हिस्ट्री एवं ट्रेन को पता कर लें तभी उस पर पैसा लगाएं ! शेयर मार्केट में निवेश काफी जोखिम भरा होता है, लालच में आकर कोई भी शेयर तुरंत ना खरीद लें !

 

संबंधित लेख