Business Tips In Hindi यह बिज़नेस टिप्स आपको कामयाब बना सकता है

About Author: Aleena Farheen

Last Edited: 06 Jul 2019 03:03 AM

business tips in hindi

नमस्कार मित्र, क्या आप बिजनेस में कामयाब होना चाहते हैं ? Business Tips in Hindi के जरिए आप अपने बिजनेस को नई ऊर्जा एवं उड़ान दे सकते हैं !

क्या बिजनेसमैन या एक व्यापारी को हमेशा बिजनेस की तरह ही सोचना चाहिए ? नया बिजनेस शुरू करना चाहते हैं ?

हम कहां-कहां पर गलती करते हैं हमें जल्दी से पता नहीं चलता है ! जैसे जैसे हम सक्सेस होते हैं तो हमारे अच्छे मित्र हमसे दूर क्यों हो जाते हैं ? 

इस लेख के जरिए आप अपने बिजनेस या व्यापार को खोलते हुए पानी से बाहर निकाल सकते हैं ! कैसे, उसके लिए मैंने बिजनेस जगत की बहुत सारे किताबों का अध्ययन किया है !

जिसमें से मुझे सबसे ज्यादा ‘’ सफलता की कहानी’’ (माल्कॉम ग्लैडवेल) और ‘’ टाइटन्स के टूल्स ‘’ (टिम फारेस) नाम के किताबों ने प्रभावित किया है !

बिजनेस टिप्स इन हिंदी जो आपकी जिंदगी बदल सकता है

सच्ची बातें थोड़ी कड़वी होती है ! हो सकता है कि आपके दोस्त या सहयोगी ऐसी बातें आप से नहीं करते होंगे ! आप से मैं अनुरोध करती हूं कि सभी बिजनेस टिप्स को आप ध्यान से पढ़ें और उनमें से जो अच्छा लगे उसे जरूर अपनाएं ! 

1 - शायद, समस्या आप तो नहीं हैं

सबसे पहले मैं यह कहूंगी कि, प्रॉब्लम आप में हो सकता है ! आप के डर या ज्यादा इज्जत के कारण से आपको कोई कुछ नहीं कहता है !

आपने कभी शीशे के सामने खड़ा होकर अपने आप का आलोचना किया है ? जैसे कभी आप अपने कर्मचारी का आलोचना करते हैं ! 

हमें किसी और में प्रॉब्लम ढूंढने से पहले शुरुआत अपने आप से ही करनी चाहिए ! क्या हमारी किसी गलत आदत के कारण ही समस्या उत्पन्न होती है !

जैसे आप बाकी समस्याओं का निदान करते हैं ! उसी प्रकार अपने समस्याओं का भी निदान कर सकते हैं!

2 - क्या बैंक में पर्याप्त नकदी है 

दुनिया में ज्यादातर कंपनियाँ पूंजी की कमी के कारण डूबने का रिकॉर्ड रहा है ! दुनिया के हर छोटे-बड़े व्यापार में नगदी की आवश्यकता लगभग हर समय होती है !

हमारे दिमाग में हमेशा बैलेंस शीट होना चाहिए कि हमें कितना लोगों को देना है और हमारे पास कितना है और कितना आने वाला है !

3 - कर्मचारियों की सही पहचान करें 

छोटा से छोटा बिज़नेस, बिना कर्मचारियों का नहीं चल सकता है ! अगर उसे बड़ा करना चाहते हैं तो, बहुत सारे कर्मचारियों की आवश्यकता होगी !

अच्छे और बुरे कर्मचारियों की पहचान एक मालिक के लिए अत्यंत आवश्यक है ! अच्छे कर्मचारियों को हमेशा अपने साथ कैसे रखें और खराब कर्मचारियों को जल्दी से जल्दी कैसे उसकी छुट्टी करें ! 

4 - कभी-कभार आपको इंसान बनकर सोचना चाहिए

हम बिजनेसमैन की सोच हमेशा फायदे और नुकसान पर ही केंद्रित रहता है ! क्या हमारे सोचने की क्षमता रोबोट की तरह हो चुकी है ?

जरा सोचिए आपके चारों तरफ जो लोग हैं इसके बारे में क्या सोच रहे हैं !

आप बिजनेसमैन या व्यापारी बनने से पहले आप एक आदमी थे ! जरा वैसे ही सोचिए ! एक इंसान की आवश्यकता क्या हो सकती है !

फायदे और नुकसान को दूसरे तराजू पर रख कर देखिए ! आप अपने कर्मचारी को भी परिवार समझने लगेंगे !

5 - उपयोग और दुरुपयोग जरूर समझें

अगर भारत जैसे देश में हमारे पास धन है ! इसका मतलब यह भी हो सकता है कि हमारे पास पावर है ! पावर के सही उपयोग से हम आगे बढ़ सकते हैं ! लेकिन यह भी तय है कि उसके दुरुपयोग से हमेशा हम पीछे ही जाएंगे !

याद रखें कि आपका कर्मचारी या ग्राहक आपका बेटा या बेटी नहीं ! अपने व्यवहार में धन की नरमी बरतें !

6 - हाँ या ना बोलने से पहले सोच लें

हाँ या ना मालिक के लिए 2 सबसे ज्यादा निर्णायक शब्द हैं ! आप यह मान लीजिए कि आप एक राजनेता नहीं हैं, तभी आप बिज़नेस कर पाएंगे !

यह दोनों शब्दों का चयन करने से पहले कई बार सोच लें  ! अगर आप अपनी बात से मुकर जाते हैं तो सबसे ज्यादा नुकसान आप ही को होने वाला है! 

7 - अपने ग्राहकों को हमेशा सुनें

ग्राहक की तुलना मौत और भगवान से होती है ! क्या जानते हैं ऐसा तुलना क्यों क्या जाता है ? मौत कभी बता कर नहीं आता और हमें भगवान को कभी नाराज़ नहीं करना चाहिए !

सब से ज्यादा असंतुष्ट ग्राहक ही हमें सबसे ज्यादा सिखाता है ! इसीलिए हमें अपने ग्राहक को सुनना चाहिए ! हमने जो वस्तु या सेवा या उत्पाद का ग्राहकों को वचन दिया है उसे पूरा करना चाहिए ! यही बिज़नेस का असली धर्म है !

8 - पक्षपाती ना बनें

बिजनेस लीडर को कभी भी पक्षपाती नहीं होना चाहिए ! उसे न्यूट्रल होकर हर किसी को देखना चाहिए ! भारत जैसे बड़े देशों में विभिन्न धर्म, जाति एवं समुदाय के लोग एक साथ रहते हैं, जो आपका ग्राहक है !

9 - कब पारदर्शी नहीं होना चाहिए

पारदर्शिता कुछ समय के लिए हानिकारक है ! क्योंकि यह दूसरों के लिए फ़ायदेमंद है ! आपको यह खुद तय करना पड़ेगा कि किसके साथ हमें कितना पारदर्शी होना है ! अपने हौसले पर भरोसा करना सीखना चाहिए !

बिजनेस की बातें कभी भी पब्लिक प्लेस पर नहीं करना चाहिए ! आपका कितना कुल ट्रांजैक्शन हुआ है ! अगर उसकी खबर आपके किसी कर्मचारी या किसी और को है ! समझ लें कि आप खतरे में हैं ! 

10 - अपने बिजनेस की रक्षा स्वयं से करें

कॉपीराइट, ट्रेडमार्क, व्यापार रहस्य और पेटेंट जानकारी अवश्य हासिल करें ! क्या आप एक व्यापारी हैं ? अगर आपका दुकान जल जाता है तो क्या अब बर्बाद हो जाएंगे !

क्या आपका बिजनेस रजिस्टर्ड है ? क्या आपने अपने व्यापार या बिजनेस का इंश्योरेंस करवाया है?

दोस्तों के साथ या भाइयों के साथ आप जो बिजनेस कर रहे हैं क्या वह फॉर्म रजिस्टर हुआ है ?

11 - व्यापारिक संबंध भी आपको डूबा सकता है

जब हम किसी के साथ व्यापारिक संबंध शुरू करते हैं तो, कुछ दिनों में मित्रता में बदल जाता है ! जैसे जैसे मित्रता बढ़ता है वैसे वैसे हम कागजात के कामों को मित्रता से दूर करना शुरू कर देते हैं !

यह व्यापारिक मित्रता आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है ! बिजनेस और मित्रता को अलग रखें ! 

12 - व्यवसाय की तरह अपना व्यवसाय चलाएँ

अपने व्यवसाय को निजी जीवन से बिल्कुल अलग रखें और उसे व्यक्तिगत ही रखें ! व्यक्तिगत वित्त के विस्तार की तरह ना चलाएँ !

बिजनेस में कभी भी रिलेशन को मिक्स ना करें ! इसका घाटा सबसे ज्यादा आपको ही होगा ! आपने जो भी किताबों में पढ़ा है उस सिद्धांत को हमेशा प्रैक्टिकल में जरूर उतारें !

13 - वित्तीय स्थिति पर खुद रखें ध्यान

क्या आप अपने राजस्व, व्यय, पूंजी आवश्यकताओं, मुनाफे (सकल और शुद्ध), ऋण, नकदी प्रवाह और प्रभावी कर दर - व अन्य बातों का लेखा-जोखा खुद रखें  ! 

चार्टर्ड अकाउंटेंट या अपने निजी अकाउंटेंट पर आंख मूंदकर भरोसा ना करें ! सभी बही खातों को खुद से चेक करें ! 

14 - आपको पता है कि आप यह नहीं जानते हों

नम्रता नेताओं के लिए एक शक्तिशाली विशेषता है ! उसे जब कुछ पूर्ण रुप से पता नहीं होता तो उस पर वह स्टेटमेंट नहीं देता है !

उसी प्रकार अगर हमें बिजनेस का जो बात पता न हो उसे हमें जानना चाहिए ! दूसरे के सुझाए बिजनेस आइडिया को अपनाने से पहले कम से कम 10 बार हमें जरूर सोच लेना चाहिए !

15 - अपने पसंद को समझिए

आप जरा सोचिए अपने 24 घंटों में से कौन सा 12 घंटे को आसानी से काम पर लगा सकते हैं ! कौन सा काम करने में आपको थकान नहीं होता है ?

इन दोनों प्रश्नों के उत्तर के अनुसार ही अपने बिजनेस को शुरू कीजिए ! आप बिजनेस कर रहे हैं तो उसमें परिवर्तन ला सकते हैं !

16 - अपने बिज़नेस से जुड़े हर काम को सीखने में कोताई ना करें

आप जहाँ का मालिक बनने का सोच रहे हैं ? पहले वहाँ नौकर बनना सीखीए ! तभी आप अपने बिजनेस को आगे बढ़ा पाएंगे !

अपने बिजनेस से संबंधित हर काम को करना सीखिए ! क्या पता कौन सा कर्मचारी किस दिन नहीं आता है ! अगर आप सीखे रहते हैं तो अपने कर्मचारी को बेहतर ढंग से चेक कर पाएंगे ! 

17 - बोली में मिठास रखें

अगर आपका व्यवहार अच्छा है तो यह मान लीजिए कि बिजनेस में आपका फेल होने के चांसेस बहुत ही कम है ! ग्राहक एवं काम करने वाले नौकर भी आपसे प्यार करने लगेंगे !

वाणी में मिठास भरने के लिए अच्छे शब्दों का चयन करें  ! किसी करवी बात को भी, मिठास के साथ कैसे बोला जाए ऐसे वाक्यों का चयन करें ! 

18 - गैरकानूनी कामों से बचें

आपने विजय माल्या के बारे में सुना होगा ! उससे आपको सीखने की आवश्यकता है ! कभी भी गैरकानूनी बिजनेस कर के कोई बड़ा बिजनेसमैन नहीं बन सकता है !

असिद्धांतिक बिजनेस को अगर कानूनी ढंग से किया जाए तो वह गलत नहीं है ! टैक्स की बारीकियों को सीखने में कोई भी कोताही न बरतें ! बिज़नस से संबंधित एग्रीमेंट को विस्तार से जानकारी हासिल करना चाहिए ! 

19 - बिजनेस में सब कुछ नहीं लगा दें

आपने सुना होगा कुछ बड़े बिजनेसमैन भी रोड पर आ जाते हैं ! इसका कारण सिर्फ एक ही है कि वह सब कुछ बिजनेस में लगा देते हैं !

पूंजी के अन्य विकल्प पर भी सोचें दुनिया में आज के समय में बहुत सारे विकल्प मौजूद हैं ! अगर आपका पहला बिजनेस डूब जाता है तो आपके पास दूसरा बिजनेस शुरू करने लायक कुछ पूंजी होना चाहिए ! 

20 - प्रॉफिट बांटने में ईमानदारी बरतें 

आपके कंपनी या दुकान का जो भी फायदा होता है ! उसे इन्वेस्टर ही नहीं कर्मचारियों के बीच में भी बांटें ! बांटने का मतलब यह नहीं होता है कि आप उसे हिस्सा देगें !

ज्यादा और अच्छा काम करने वाले को पुरस्कृत कर सकते हैं ! अपने इन्वेस्टर को कभी भी नाराज ना करें ! क्योंकि एक इन्वेस्टर दूसरे इन्वेस्टर को लाता है !

मैं आशा करती हूं कि बिजनेस टिप्स इन हिंदी आपके लिए लाभदायक रहा होगा ! बिजनेस एवं फाइनेंस से संबंधित अन्य लेख के लिंक नीचे दिए गए हैं  !