काला धन क्या है ? ब्लैक मनी किसे माना जाता है ?

About Author: Aleena Farheen

Last Edited: 06 Jul 2019 02:26 AM

काला धन क्या है, black money in hindi, Kala dhan kiya hai, ब्लैक मनी किसे कहते हैं, काले धन को लोग कहां छुपाते हैं, काला धन और नोटबंदी

Kala Dhan Kiya Hai ?

काले धन की क्या परिभाषा है ? वह संपत्ति है जो अवैध तरीकों से जमा किये जाने वाले धन या अर्जित संपत्ति में से सरकार को टैक्स नहीं दिया गया हो !

भारतीय अर्थव्यवस्था में टैक्स चोरी आम बात है ! लेकिन पिछले कुछ वर्षों से इस में काफी सुधार हुआ है ! भारत में ज्यादातर छोटे कारोबार कैश के द्वारा होता है ! 

What is black money in hindi

इस लेनदेन में बड़े एवं छोटे बिजनेस मैन टैक्स चोरी करके, गैरकानूनी ढंग से संपत्ति जमा कर लेते हैं ! उस संपत्ति को बेनामी संपत्ति के तौर पर इन्वेस्ट कर देते हैं ! बड़े बिजनेसमैन उस ब्लैक मनी को विदेशी बैंकों में जमा कर देते हैं ! 

ब्लैक मनी किसे कहते हैं

ब्लैक मनी, ऐसे धन को कहते हैं जो अवैध तरीकों से अर्जित किया गया हो और उस पर सरकार को टैक्स नहीं दिया गया हो, ऐसे धन को ब्लैक मनी कहते हैं ! भारत में धनकुबेरों की कमी नहीं है जो सरकार के टैक्स को चोरी करते हैं !

सरकार को टैक्स दिए बिना अपने संपत्ति को विदेशों एवं बेनामी संपत्ति के तौर पर छुपा देते हैं ! एक अनुमान के मुताबिक 7,280,000 करोड़ रूपये का काला धन, भारतीय धनकुबेरों के द्वारा विदेशी बैंकों में जमा है !

काले धन को लोग कहां छुपाते हैं

दुनिया के ज्यादातर लोग काले धन को स्विस बैंक में छुपाते हैं ! स्विस बैंक स्विजरलैंड में स्थित है ! यह ऐसा बैंक है जो अपने कस्टमर का इंफॉर्मेशन किसी भी कीमत पर सार्वजनिक नहीं करते हैं ! यही कारण है कि काला धन रखने वाले आराम से बच जाते हैं !

कुछ लोग काले धन को छुपाने के लिए बेनामी संपत्ति खरीदते हैं ! वह संपत्ति भारत में भी हो सकता है या भारत से बाहर भी होता है ! 

काला धन और नोटबंदी

भारत सरकार ने काले धन पर लगाम लगाने के लिए नोट बंदी किया था ! जिसका असर आज के अर्थव्यवस्था में दिख रहा है ! सरकार लगातार प्रयास कर रहा है कि लोग टैक्स में चोरी ना करें !

भारत के 130 करोड़ लोगों में सिर्फ 4 करोड़ लोग ही इनकम टैक्स भारत सरकार को देते हैं ! इस बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि हमारे सरकार को देश की अर्थव्यवस्था को संभालने में कितना प्रयास करना होता होगा !