What is Loan in Hindi

What is loan in hindi : लोन के प्रकार : बैंक लोन इनफार्मेशन  : Bank Loan in Hindi

बैंक से लोन कैसे लें, पूरी जानकारी यहां मिलेगा

 

What is Loan in Hindi शब्दों से भारतीय हिंदी भाषी अक्सर लोन संबंधित जानकारी चाहते हैं ! Loan एक अंग्रेजी शब्द है, लोन को हिंदी भाषा में ऋण कहते हैं जबकि उर्दू भाषा में कर्ज कहते हैं ! आम भाषा में इसको समझे तो, इसे उधार में लिया गया धन जो दिए गए समय अंतराल के अंदर कुछ फायदों के साथ धन की वापसी करना होता है !

लोन की परिभाषा

एक व्यक्ति, व्यवसाय, या देश, विशेष रूप से बैंक से धन उधार  लिया हो और एक निश्चित समय सीमा के अंदर लोन की राशि के साथ ब्याज वापस करें, उसे लोन कहते हैं !

बैंक निर्धारित अवधि के लिए ऋण के रूप में धन किसी व्यक्ति, व्यवसाय, या राज्य व देश प्रदान करती है और लोन पाने वालों को लोन राशि की वापस करना होता है, तय ब्याज दर एवं अवधि के अनुसार ब्याज बैंक को अदा करना होता है !

ऋण धन के अनुसार ऋण लेने वालों को अपनी प्रॉपर्टी दिखाना होता है या प्रॉपर्टी को गिरवी रखना होता है या ऋण अदायगी का कोई भी गारंटी, जब कोई ऋणी ऋण का पैसा एवं ब्याज वापस ना कर पाए तो बैंक उसकी प्रॉपर्टी को जब तक करके उससे पैसा वसूल करता है !

लोन के प्रकार

सुरक्षित ऋण (Secured loan)

सुरक्षित ऋण वह ऋण है जिसमें ऋण लेने वाले कुछ परिसंपत्तियों या संपत्तियों के कागजात या अधिकार बैंकों के सामने संपार्श्विक के रूप से दिखाना होता है ! बैंक जिस व्यक्ति या संस्था को ऋण दे रहा है उसमें बैंक का धन सुरक्षित रहता है ! जबकि ऋण लेने वाले को भी इसका लाभ होता है, ऋण में ब्याज दर कम होता है, ऋणराशि भी ज्यादा होता है और लंबी अवधि के लिए मिल सकता है !

होम लोन को इस कैटेगरी में रख सकते हैं जैसे आप लोग होम लोन लेते हैं ! बैंक आपके जमीन के कागज को देखता और परखता है, उसके कुछ दस्तावेज अपने पास भी बैंक रखता है ! बैंक को यह उम्मीद हो जाता है कि मेरा धन इस व्यक्ति के पास सुरक्षित रहेगा ! ऋण लेने वाला अगर समय पर ऋण और ब्याज वापस नहीं कर पाएगा तो वैसे मैं बैंक उस प्रॉपर्टी से अपना धन प्राप्त कर सकता है !

ऋण लेने वाले व्यक्ति का मौत हो जाए तो बैंक उसके संपत्ति को अपने कब्जे में नहीं लेगा, उसके लिए बैंक एक नया योजना लाया है ! ऋण लेने वाले व्यक्ति के नाम पर बैंक इंश्योरेंस करवा लेता है जिसका प्रीमियम लोन लेने वाले को ही अदा करना होता है !

असुरक्षित ऋण (Unsecured loans)

असुरक्षित ऋण मौद्रिक ऋण के तौर पर देखा जाता है, जिसमें ऋण लेने वाले व्यक्ति या संस्था को अपनी संपत्ति को बैंक के समक्ष संपार्श्विक रूप से नहीं दिखाना होता है ! इस प्रकार के ऋण की अवधि कम होती है, ऋण राशि भी बहुत कम होती है और ब्याज दर बहुत ज्यादा होता है !

क्रेडिट कार्ड और बैंक ओवरड्राफ्ट इसके उत्तम उदाहरण हैं, जिसमें बैंक अपने ग्राहक को क्रेडिट कार्ड उसके बैंक खातों में लेनदेन को देखकर देता है !

रियायती ऋण (Subsidized loan)

रियायती ऋण वह ऋण होता जब बैंक अपने ग्राहकों को ब्याज दरों में कमी कर के या बैंक गारंटी के तौर पर प्रॉपर्टी में रियायत देकर ऋण देता है, उसे रियायती ऋण कहते हैं !

लेकिन आम भाषा में कहें तो यह एक ऋण होता है जिसमें बैंक आपको कई प्रलोभन देता है, वह आपको देखने में बहुत आसान लगता है लेकिन जब उसके टर्म एंड कंडीशन को पढ़ेंगे और समझेंगे तो आपको लगेगा कि यह एक अच्छा मार्केटिंग है !

केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार के भी लोन भी इसी कैटेगरी के अंतर्गत होता है जिसमें सरकार कहता है कि बैंक गारंटी में देता हूं या ब्याज दर भी आपको अभी नहीं बाद में देना है या इतने प्रतिशत तक का ब्याज दर आप को माफ किए जा सकते हैं इस अवधि के बीच ! इस तरह का लोन हर व्यक्ति को नहीं मिलता है उसके लिए सरकार कुछ अच्छे टर्म एंड कंडीशन बनाते हैं जिसमें कम से कम लोगों को मौका मिले !

भारत में रियायती लोनों का लिस्ट

  • प्रधान मंत्री मुद्रा योजना ऋण
  • प्रधानमंत्री आवास योजना ऋण
  • कृषि ऋण
  • स्टार्टअप इंडिया ऋण
  • शिक्षा ऋण
  • महिलाओं के लिए विभिन्न प्रकार के ऋण
  • अल्पसंख्यकों के लिए विभिन्न प्रकार के ऋण

Bank Loan in Hindi

बैंक लोन से लोगों ने अपनी जिंदगी को पहले से काफी बेहतर किया है लेकिन कुछ लोगों ने लोन लेकर परेशानी भी अपने लिए खड़े कर लेता है !

बैंक से लोन लेने से पहले रखें इन बातों का ध्यान -

  • अपने जरूरत को देखें
  • कितना लोन चाहिए
  • कितने अवधि के लिए चाहिए
  • इससे आपको क्या फायदा होगा
  • लोन का पैसा जहां पर लगा रहे हैं वहां से कितना वापस आएगा
  • क्या कोई और विकल्प हैं
  • सबसे सस्ता लोन किस बैंक में मिलेगा
  • क्या भारत सरकार एवं राज्य सरकार का कोई रियायती ऋण उपलब्ध है आपके लिए
  • लोन की राशि एवं ब्याज अदा करने के लिए हमारे पास क्या स्रोत हैं
  • अगर मेरी मृत्यु हो जाए तो अदा कैसे होगा

बैंक लोन इनफार्मेशन  / बैंक लोन की जानकारी

भारतीय रिजर्व बैंक भारत का केंद्रीय बैंक है जो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों, भारतीय स्टेट बैंक और सहयोगी और निजी बैंकों का कानूनी रूप से नीति निर्धारण करता है ! बैंकों की जानकारी में सबसे पहले भारत में बैंकों के नाम से शुरुआत करना चाहता हूं !

भारत में बैंकों के नाम

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के नाम

  1. बैंक ऑफ इंडिया
  2. देना बैंक
  3. आईडीबीआई बैंक
  4. भारतीय महिला बैंक
  5. इंडियन बैंक
  6. ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स
  7. पंजाब नेशनल बैंक
  8. यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया
  9. यूको बैंक
  10. इलाहाबाद बैंक
  11. आंध्रा बैंक
  12. बैंक ऑफ बड़ौदा
  13. बैंक ऑफ महाराष्ट्र
  14. केनरा बैंक
  15. सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया
  16. कॉर्पोरेशन बैंक
  17. इंडियन ओवरसीज बैंक
  18. सिंडिकेट बैंक
  19. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया
  20. विजया बैंक
  21. पंजाब एण्ड सिंध बैंक

भारतीय स्टेट बैंक और सहयोगी   

  • भारतीय स्टेट बैंक
  • स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एण्ड जयपुर
  • स्टेट बैंक ऑफ ट्रावनकोर
  • स्टेट बैंक ऑफ पटियाला
  • स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद
  • स्टेट बैंक ऑफ मैसूर
  • स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर
  • स्टेट बैंक ऑफ जयपुर

निजी बैंक   

  • आईसीआईसीआई बैंक
  • एचडीएफसी बैंक
  • ऐक्सिस बैंक
  • कोटक महिंद्रा बैंक
  • यस बैंक
  • फेडरल बैंक
  • साउथ इंडियन बैंक

आप कोई भी लोन लेने का अगर योजना बना रहे हैं, तो एक बात पहले आप तय कर लें कि, आपके पास क्या डाक्यूमेंट्स हैं और आप जो लोन लेने वाले हैं इसके बदले आप कौन सी प्रॉपर्टी क्रांति के तौर पर बैंक को दिखाएंगे ! भारत के ज्यादातर बैंकों में लोन देने का डॉक्यूमेंटेशन कमोबेश एक ही प्रकार का होता है ! अगर आपको इन सब पीछे हैं तो आपको सरकार द्वारा दिए जाने वाले रियायती ऋणों के बारे में जानना चाहिए जो आपको आसानी से भी मिल सकता है !

हां ब्याज दरों में विभिन्नताएं बैंकों के अनुसार होता है लोन लेने से पहले कंपेयर जरूर कर लें जिसका फायदा आपको हो सकता है !

बैंक से लोन कैसे लें

बैंक से लोन कैसे लें, यह एक आसान सवाल भी हो सकता है अगर आप इसकी तैयारी पहले से कर लेते हैं ! जो सरकारी कर्मचारी या निजी क्षेत्र के कर्मचारी हैं उसे बैंक से लोन लेना हमेशा उसके लिए आसान रहता है क्योंकि उसके पास डॉक्यूमेंट्स की कमी नहीं होता है !

लेकिन समस्या सबसे ज्यादा उसको होता है जो कहीं की भी कर्मचारी नहीं है और उसे अपना इनकम प्रूफ करना मुश्किल होता है ! यह कुछ ऐसे भी स्टूडेंट्स होते हैं जिसका  शिक्षण संस्थान के पर्याप्त मान्यताएं नहीं होती हैं ! ऐसे व्यक्तियों के लिए क्या विकल्प हो सकता है !

आपका जो भी इनकम हो, इनकम टैक्स फाइल जरूर करें ! जिसके लिए आपको ज्यादा खर्च करने की आवश्यकता नहीं होती है! अगर आप टैक्स दायरे से बाहर हैं तब पर भी इनकम टैक्स फाइल कर सकते हैं जो आपका इनकम प्रूफ हो सकता है !

किसान भाई भी इनकम टैक्स फाइल कर सकते हैं चाहे जो भी इनकम हो उसे टैक्स देना नहीं होता है ! तो किसान भाई आसानी से अपना इनकम प्रूफ बना सकते हैं ! अगर कृषि लोन या कृषि से संबंधित अन्य प्रकार के लोन चाहिए तो उसे अपने जमीनों के कागज़ात को सही रखना चाहिए !

अगर आपका डाक्यूमेंट्स पूरा है तो ज्यादातर चांसेस होते हैं कि बैंक आपको आसानी से लोन दे देगा अगर आप उसके टर्म कंडीशन को पालन करेंगे  !

 

संबंधित लेख