Tified Fever In Hindi - मियादी बुखार क्या होता है और कैसे होता है

About Author: Dr. K. K. Jha

Last Edited: 04 Mar 2019 02:08 AM

 tified fever in hindi

सबसे पहले दोस्तों आपको बता दूं कि मियादी बुखार के अन्य और क्या नाम हैं ! मियादी बुखार को अंग्रेजी में टाइफाइड फीवर कहते हैं ! Typhoid Fever In Hindi  शब्दों के जरिए अगर आप इस बुखार का ए टू जेड जानना चाहते हैं तो, इस लेख को आप आखिर तक पढ़ सकते हैं !

मियादी बुखार क्या होता है ?

यह बीमारी, बैक्टीरिया के इंफेक्शन से होता है ! यह बैक्टीरिया हमारे शरीर में दूषित लिक्विड फूड के द्वारा प्रवेश करता है ! गंदा पानी या जूस आदि का सेवन करने से यह बैक्टीरिया आसानी से हमारे शरीर में प्रवेश कर जाता है !

दूषित खाने से यह हमारे स्मॉल इंटेस्टाइन से खून तक पहुंच जाता है ! इसकी शुरुआत हल्के फीवर से होती है ! 

टाइफाइड किस से होता है

टाइफाइड एक बैक्टीरियल इनफेक्शन है ! इस बैक्टीरिया का नाम साल्मोनेला टैफी है ! यह बैक्टीरिया दूषित लिक्विड फूड में होता है ! दूषित पानी या खाना खाने से हमारे शरीर में प्रवेश कर जाता है !

यह बीमारी उन लोगों में ज्यादा देखा जाता है जो गंदे पानी का सेवन करते हैं या बाहर का खाना खाना ज्यादा पसंद करते हैं ! 

टाइफाइड के क्या लक्षण होते हैं

इस बैक्टीरिया का संक्रमण होने के बाद, भूख कम लगना, शरीर में दर्द होना, शुरुआत में हल्का बुखार होना यह इसके आम लक्षण हैं !

बाद के लक्षणों में सिर में दर्द, तेज बुखार, ठंड लगना, दस्त लगना कमजोरी और उल्टी जैसे लक्षण दिखाई देने लगता है !

बुखार की दवाई खाने के बाद यह फीवर दो-तीन दिनों के लिए कम या खत्म हो जाता है ! लेकिन दो-तीन दिनों के बाद फिर से तेज फीवर आता है ! यह एक ऐसा फीवर है जो जल्दी खत्म नहीं होता है ! जब तक कि इसका सही इलाज ना हो जाए !

टाइफाइड फीवर का पता कैसे लगाया जाता है

टाइफाइड फीवर का कन्फर्मेशन टेक्नोसिस करने के लिए वाइडल टेस्ट किया जाता है ! इस टेस्ट में यह भी बता दिया जाता है कि कौन सा एंटीबायोटिक आपके लिए ठीक है !

टाइफाइड का इलाज क्या है

टाइफाइड का इलाज में सबसे अहम है उसका एंटीबायोटिक और दूसरा फीवर कम करने वाली दवा ! टाइफाइड फीवर के लिए एंटीबायोटिक का सिलेक्शन डॉक्टर से ही करवाएं !

अगर एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस हो जाए तो यह बीमारी खतरनाक हो सकता है ! एंटीबायोटिक के सिलेक्शन में सावधानी बरतें हैं !

टाइफाइड ना हो इसके लिए क्या करें

आप चाहते हैं कि टाइफाइड जैसे खतरनाक इनफेक्शन आप हो ना हो ? उसके लिए सबसे पहले खाने-पीने में साफ सफाई रखें ! साफ पानी पिए या उपलब्ध ना हो तो पानी को गर्म करके पीना चाहिए!

ताजे फल और सब्जी का सेवन करें ! लहसुन का प्रयोग करना अच्छा माना जाता है ! लोंग और केले का सेवन करें !

टाइफाइड फीवर के मरीजों का देखभाल कैसे करें

टाइफाइड के मरीज को आराम करने की सलाह दी जाती है !  अगर तेज बुखार हो तो उस पर और ज्यादा कपड़ा ना डालें !

तेज बुखार होने पर, कपड़े को पानी में भिगोकर उसके सर पर पट्टी लगाएं ! ध्यान रहे कि आप बर्फ का इस्तेमाल ना करें ! संतुलित आहार दें हो सके तो नारियल पानी दें ! उसके बुखार को मॉनिटर करते रहें और हो सके तो उसे नोट करें !

मियादी बुखार कितने दिनों में ठीक हो जाता है

इस बुखार का अगर डायग्नोसिस शुरुआत में हो जाए तो 1 से 2 हफ्ते तक एंटीबायोटिक खाने से यह ठीक हो जाता है ! अगर इस बीमारी का डायग्नोस्टिक लेट से होता है तो 3 से 4 हफ्ते तक एंटीबायोटिक की गोली या इंजेक्शन लगवाना होता है !