Pyar Ka Matlab Kya Hota Hai

About Author: Abuzar Niyazikk

Last Edited: 04 Mar 2019 02:17 AM

pyar ka matlab kya hota hai, sacha pyar kya hota hai, pyar kya hota hai, प्यार का मतलब क्या होता है, सच्चा प्यार क्या होता है, प्यार क्या होता है

Pyar ka matlab kya hota hai जानने का आपके लिए आज एक बेहतरीन मौका है ! प्यार का मतलब क्या होता है इस चीज को समझने के लिए आपको थोड़ा सा समय देना होगा ! इस खूबसूरत को एहसास को समझने के लिए इस लेख को आखिर तक ध्यान से ज़रुर पढ़ियेगा तभी आप को निष्कर्ष पता चलेगा !

लेख के दूसरे भाग में Sacha pyar kya hota hai उसका वर्णन है ! प्यार को लव, प्रेम ना जाने कितने और शब्दों से इस एहसास को लोग बयान करते हैं !

प्यार का मतलब क्या होता है

विद्वानों की दृष्टि से प्यार और रिश्ता दो अलग चीजें भी हो सकती हैं या एक भी हो सकती हैं ! इसका मतलब मतलब समझने की कोशिश करते हैं !

मानव के बीच संबंध यानी रिश्ता दो प्रकार से विभाजित किया जा सकता है ! एक रिश्ता वह होता है जो हमें समाज प्रदान करता है जिसे हम बाय डिफ़ॉल्ट रिलेशन कहते हैं ! जैसे आप के सगे संबंधी मामू, चाचा, माता-पिता, भाई-बहन आदि हो सकते हैं !

दूसरा रिश्ता वह होता है जो हमें समाज से नहीं मिलता है लेकिन हम उसे स्थापित करते हैं उसे ऑन क्रिएट रिलेशन कहते हैं ! इसमें आपका महिला एवं पुरुष मित्र होते हैं !

बाय डिफ़ॉल्ट और ऑन क्रिएट रिलेशन में काफी फर्क हो सकता है ! जो कुछ भी हमें बहुत आसानी से मिल जाता है हम उसकी कदर नहीं करते हैं या कुछ ही लोग हैं जो उसकी कद्र करते हैं !

आपसे अगर पूछा जाए कि क्या आपको अपनी मां से प्यार है, आपको उसकी चिंता है ! आप बिना सोचे तुरंत किसी को भी कह देते हैं कि मुझे अपने मां से बहुत प्यार है ! उसकी कष्ट और पीड़ा हमें बर्दाश्त नहीं होता है ! जबकि यह रिश्ता बाय डिफ़ॉल्ट है क्योंकि मां ने आप को जन्म दिया है !

बाकी अन्य बाय डिफॉल्ट रिश्ते में आप प्यार को तलाशते हैं, मेरे चाचा मुझसे कितना प्यार करते हैं ! जरा सोचिए कि आप उससे कितना प्यार करते हैं ! आपको उसकी कितनी चिंता है ? आप उनसे भी उतना ही उम्मीद कर सकते हैं !

लड़का और लड़की का प्यार

लड़का एवं लड़की के प्रेम कहानी को अक्सर सुना जाता है और लोग यह भी कहते हैं कि एक दूसरे के बिना वह जिंदा नहीं रह पाएंगे ! जबकि यह रिश्ता सेल्फ क्रिएट रिलेशन है !

प्रेमी एवं प्रेमिका का प्यार के साथ मां और बेटे का प्यार अगर आप तुलना करेंगे तो आप हमेशा के लिए कंफ्यूज हो जाएंगे ! क्योंकि दोनों ही रिश्ता अलग प्रकार का है और दोनों में मोहब्बत भी अलग प्रकार का हेता है !

आपको दुनिया में किस चीज से सबसे ज्यादा सुख मिलता है, उसके लिए आप की माँ कोशिश करते रहती हैं कि मेरा बेटा या बेटी हमेशा खुश रहे ! इससे थोड़ा अलग आपके पिता भी यही चाहते हैं लेकिन वह आपके माता से अलग गोपनीय रूप से करना चाहते हैं !

आपके महबूबा या महबूब किस तरह का मोहब्बत करते हैं यह देखने वाली बात होती है ! आपके माता की तरह या पिता की तरह या सिर्फ बातों से खुश करना ही पसंद करते हैं !

निष्कर्ष के तौर पर देखें तो प्यार एक दिल और दिमाग का एहसास है जो इंसान को खुशी की ओर ले जाता है ! एक मनुष्य दूसरे मनुष्य के लिए दयावान बन जाता है ! स्नेह और भावनाओं के साथ साथ सुख और दुख में भी एक होने को मन करता है, यही असली प्यार है !

Sacha Pyar Kya Hota Hai

Pyar kya hota hai उम्मीद करता हूं कि अब आपको थोड़ा ज्यादा क्लियर हो गया होगा लेकिन सच्चे प्यार की पहचान भी अत्यंत आवश्यक है जिसका वर्णन में आगे करने जा रहा हूं !

क्या आज का प्यार सुख और सुविधा के लिए ज्यादा प्रभावित हो रहा है ! कुछ लोग कहते हैं कि मैंने इस लड़की को पटा लिया, लेखक के तौर पर मैं कहना चाहता हूं कि यह बात कितना अजीब है ! किसी लड़की या लड़के को पटाने का क्या मतलब है ?

क्या प्यार के नाम पर धोखा देने के लिए सामने वाले को बेवकूफ बना दिया ! क्योंकि प्यार किसी के चाहने से या ना चाहने से भी नहीं होता है, यह खुद बख़ुद हो जाता है !

हां यह बात हंड्रेड परसेंट सही है कि कोई भी लड़का या लड़की के बीच में जब दोस्ती होता है तो उसका ज्यादातर चांसेस होता है कि वह प्यार में कन्वर्ट हो जाएगा !

पहले किसी से भी लंबे समय के लिए दोस्ती करें और एक दूसरे को जानने की भरपूर कोशिश करें ! जब आप दोनों में प्यार होना होगा दिल से ऑटोमेटिक आवाज बाहर आ जाएगा !

सच्चा प्यार क्या होता है, इसको किसी मशीन के द्वारा मापा नहीं जा सकता है लेकिन जो लड़के या लड़कियां सच्चे प्यार में होती हैं उनका व्यवहार कुछ अलग ही होता है !

ट्रू लव के कुछ निशानियाँ होती है जिससे आप एक दूसरे को परख सकते हैं ! दोनों में ही कुछ अलग होता है और दुनिया के सभी प्रेमी जोड़ों में ऐसा नहीं होता है लेकिन ज्यादातर केस में ऐसा ही होता है !

सच्चे प्यार में जब लड़कियाँ होती हैं

  • अपने परेशानी से भी ज्यादा अपने महबूब के दुख से उसे दुखी होती हैं !
  • अपने घर का सारा सीक्रेट्स अपने प्रेमी को बताना पसंद करती हैं !
  • अपने आशिक से अपने ऊपर कम से कम खर्च करवाना पसंद करती हैं !
  • पहले से ज्यादा अर्जेस्ट करना पसंद करती हैं ताकि उसके आशिक का इज्जत खराब ना हो जाए !
  • अपने घर एवं दोस्तों के बीच में अपने आशिक का ज्यादा तारीफ करना पसंद करती हैं !
  • अपने आशिक की बुराइयों को छुपाना भी पसंद करती हैं !

सच्चे प्यार में जब लड़के होते हैं

  • बेकार की बातों पर ज्यादा बात करना पसंद नहीं करते और वह भविष्य की बातें ज्यादा करना पसंद करते हैं !
  • मर्द को जब सच्चा प्यार हो जाता है तो उसे कभी भी छुपाना पसंद नहीं करते हैं !
  • लड़के अपनी गर्लफ्रेंड पर जरूरत से ज्यादा भरोसा करने लगते हैं !
  • अपने से ज्यादा अपनी गर्लफ्रेंड के भविष्य की चिंता करते हैं !
  • पैसे बचाना और ज्यादा कमाने की जुगाड़ में लग जाते हैं !
  • अपने दोस्तों से थोड़ा दूरी बनाना पसंद करते हैं !

दोस्तों, आप पढ़ने वाले पाठक ज्यादातर कम उम्र से ताल्लुक रखते होंगे ! आपको एक में मशवरा देना चाहता हूं कि प्यार में कभी भी जल्दबाजी ना करें !

प्यार जब भी होना है वह समय के अनुसार ही होगा ! अगर आप प्यार में हैं तो सच्चे प्रेमी या प्रेमिका को ठीक से परख ले नहीं तो आपको जिंदगी भर पछताना पड़ेगा !