Brief History Of katihar railway station from 1888 in hindi

katihar railway station

कटिहार जिला का गौरव - कटिहार रेलवे स्टेशन

katihar railway station की शुरुआत ईस्ट इंडियन रेलवे कंपनी ने 1888 में मनिहिरी-कटिहार-कसबा खंड रूप किया था ! उसके अगले साल 1889 में बारसोई-किशनगंज खंड परिचालन शुरू किया था ! आप कह सकते हैं कि यह स्टेशन 129 साल से ज्यादा पुराना रेलवे स्टेशन है ! भारत में सबसे पहला ट्रेन मुंबई और ठाणे के बीच 16 अप्रैल 1853 में ईस्ट इंडियन रेलवे कंपनी ने चलाया था !

सन 1878 सिलीगुड़ी और कोलकाता के बीच में पहला रेल चलाया गया था, उसके बाद सन 1915 में कटिहार रेलवे स्टेशन को सिलीगुड़ी, किशनगंज और दालकोला से जोड़ा गया था! पहली बार सन 1915 में कटिहार रेलवे स्टेशन का रेल संपर्क कोलकाता से हो चुका था ! आजादी की लड़ाई के समय कटिहार कलकत्ता रेलखंड का उपयोग बंद हो गया था जिससे कई सालों के बाद शुरू किया जा सकता था !

भारत के आजादी के बाद कटिहार रेलवे स्टेशन को बरौनी रेलवे स्टेशन से जोड़ा गया था ! सन 1978 में बरौनी कटिहार रेलवे ट्रैक का काम शुरू हुआ जो 1982 में में बनकर तैयार हो गया था !

अंग्रेजों का बनाया हुआ रेलवे ट्रैक सिलीगुड़ी कटिहार खंड पर 2008 तक स्थित था परंतु टेक्नोलॉजी के बदलते दौर में इसे दोबारा बनाया गया जिसमें ट्रेनों का परिचालन 2011 से शुरू हुआ था !

आज के समय -

katihar railway station करीब 508 स्टेशन सीधे जुड़े हुए हैं, इस रेलखंड पर 140 ट्रेंने गुजरती है और इस स्टेशन को जंक्शन केटेगरी वन का मान्यता प्राप्त है! इस स्टेशन पर सात प्लेटफार्म है जबकि 10 रेलवे ट्रैक हैं ! कटिहार रेलवे स्टेशन से कटिहार जिला को पूरे विश्व में प्रसिद्धि मिली जो कटिहार जिला के लिए एक गौरव की बात है ! इस स्टेशन को लोग इन नामों से भी जानते हैं -

  • katihar junction

  • katihar station

  • katihar jn